28.6 C
Jabalpur
June 28, 2022
Seetimes
Headlines National

विधान परिषद में उम्मीदवार बनाये जाने पर सपा के सहयोगियों के असंतोष के सुर

लखनऊ, 8 जून (आईएएनएस)| समाजवादी पार्टी (सपा) के विधान परिषद के उम्मीदवार घोषित होते ही सहयोगी दलों ने बागवत के सुर तेज किए। एमएलसी के लिए न चुने जाने से नाराज महान दल और जनवादी सोशलिस्ट पार्टी की सपा से राहें जुदा होती नजर आ रही हैं। सपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) ने विधान परिषद चुनाव में सीट न मिलने पर नाराजगी जताई है। महान दल ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन खत्म कर दिया है। महान दल अध्यक्ष केशव देव मौर्य ने गठबंधन तोड़ने का एलान करते हुए कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव कुछ ऐसे लोगों से घिरे हैं जो समाजवादी आंदोलन को कमजोर करना चाहते हैं। उन्होंने समाजवादी पार्टी पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कहा कि 2024 के चुनाव को लेकर नए सिरे से रणनीति बनाएंगे। मालूम हो कि केशव देव मौर्य ने विधानसभा चुनाव से पहले सपा से गठबंधन किया था।

सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर के बेटे व राष्ट्रीय महासचिव अरुन राजभर ने इस पर नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने सपा प्रत्याशियों के नामांकन के बाद ट्वीट किया कि ‘भागीदारी देने की बात सिर्फ जुबां तक सीमित रखने से जनता उनको सीमित कर देती है। जो मेहनत करे, ताकत दे, उनको नजरअंदाज करो। जो सिर्फ बात करे उसको आगे बढ़ाओ, यह आगे के लिए हानिकारक है।’

वहीं जनवादी सोशलिस्ट पार्टी के अध्यक्ष संजय चौहान भी अखिलेश से नाराज नजर दिखे। उन्होंने भी विधान परिषद न भेजे जाने को लेकर नाराजगी जाहिर की। कहा कि हमारे समाज में नाराजगी है। लोगों से बात करके आगे का निर्णय लेंगे।

सुभासपा के प्रवक्ता पियूष मिश्रा ने रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी को राज्यसभा प्रत्याशी बनाए जाने पर नाराजगी जताई। उन्होंने ट्वीट किया कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का आज का फैसला निश्चित ही सुभासपा के कार्यकर्ताओं को निराश करने वाला है। एक सहयोगी 38 सीट लड़कर आठ सीट जीतता है तो उन्हें राज्यसभा, हमें वहां कोई ऐतराज नहीं लेकिन हम 16 सीट लड़कर छह सीट जीतते हैं तो हमारी उपेक्षा, ऐसा क्यों?

यूपी विधान परिषद चुनाव के लिए बुधवार को सपा के चार उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल कर दिया है। इनमें से दो सपा नेता आजम खां के नजदीकी हैं। पार्टी की ओर से तय किए गए उम्मीदवारों में स्वामी प्रसाद मौर्य, करहल के पूर्व विधायक सोबरन सिंह यादव के पुत्र मुकुल सिंह शामिल हैं। इसके अलावा सहारनपुर से शाहनवाज खान शब्बू व सीतापुर के जासमीर अंसारी का नाम शामिल है।

अन्य ख़बरें

एआईएमआईएम ने यशवंत सिन्हा को किया समर्थन का ऐलान

Newsdesk

जम्मू-कश्मीर एलजी ने अमरनाथ यात्रा तीर्थयात्रियों के लिए व्यवस्था की समीक्षा की

Newsdesk

हैदराबाद एयरपोर्ट ने 2021-22 में सबसे अधिक पैसेंजर रिकवरी दर्ज की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy