26.5 C
Jabalpur
October 4, 2022
Seetimes
राष्ट्रीय

शौचालय में खाना परोसे जाने के बाद खेल अधिकारी निलंबित

लखनऊ ,20 सितंबर (आरएनएस)। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक प्रमुख खेल स्टेडियम के शौचालय में महिला कबड्डी खिलाडिय़ों को भोजन परोसे जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद राज्य सरकार ने मंगलवार को एक क्षेत्रीय खेल अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।
सहारानपुर के डॉ. भीमराव अंबेडकर स्पोर्ट्स स्टेडियम में हुई इस घटना के बाद शासन स्तर के खेल अधिकारी अनिमेष सक्सेना को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। अपर मुख्य सचिव खेल नवनीत सहगल ने बताया कि मामले की जांच सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह को सौंप दी गयी है। उनसे तीन दिन के भीतर पूरी रिपोर्ट मांगी गई है। इस मामले का वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया है। सहगल ने कहा, जिस ठेकेदार को खिलाडिय़ों को खाना बनाने और उपलब्ध कराने का ठेका दिया गया था, उसे ब्लैकलिस्ट (काली सूची में डालने) करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही निर्देश दिया गया है कि उसे भविष्य में कोई काम न दिया जाये।
सहगल ने कहा कि खेल निदेशक को आदेश दिया गया है कि आरएसओ के जिन अधीनस्थों को आयोजन के दौरान भोजन परोसने का काम सौंपा गया था उन्हें प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाये। उन्होंने कहा, सभी खेल अधिकारियों को चेतावनी दी गई है कि खिलाडिय़ों को सुविधाएं मुहैया कराने में किसी भी तरह की लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सोशल मीडिया पर महिला खिलाडिय़ों को शौचालय के अंदर खाना परोसने का एक वीडियो वायरल होने के बाद यह कदम उठाया गया है। कथित रूप से अंबेडकर स्टेडियम के वीडियो में खिलाडिय़ों को पुरुषों के शौचालय के अंदर रखे बर्तनों में खाना लेते देखा जा सकता है। सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने कहा कि 16 सितंबर से डॉ भीमराव अंबेडकर स्पोर्ट्स स्टेडियम में तीन दिवसीय सब जूनियर बालिका कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। उन्होंने बताया कि पहले दिन 300 खिलाडिय़ों को दोपहर के भोजन के साथ परोसा गया चावल घटिया और आध पका हुआ था। इस वजह से आयोजकों ने चावल और पूरी की थाली शौचालय के अंदर छिपा दी। सिंह ने कहा कि पूछताछ में आरएसओ अनिमेष सक्सेना ने दावा किया कि भोजन दोपहर दो बजे शुरू होना था, लेकिन सभी खिलाड़ी एक ही बार में कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए जिससे व्यवस्था प्रभावित हुई। सिंह ने कहा, उन्होंने माना कि चावल की गुणवत्ता खराब थी और चपातियों की कमी हो गई थी। भोजन तैयार करने के लिए केवल दो रसोइए उपलब्ध थे। उल्लेखनीय है कि इस आयोजन में 17 मंडलों और एक छात्रावास की टीमें भाग ले रही थीं। खिलाडिय़ों के रहने और खाने की व्यवस्था स्टेडियम के अंदर ही की गयी थी।

अन्य ख़बरें

संगठन के पद से इस्तीफा देकर ही प्रचार करें

Newsdesk

सट्टेबाजी से जुड़े विज्ञापनों को लेकर केंद्र सरकार सख्त

Newsdesk

पीएम गतिशक्ति के तहत गठित नेटवर्क योजना समूह ने 3 महत्वपूर्ण सड़क संपर्क परियोजनाओं की सिफारिश की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy