32.5 C
Jabalpur
September 30, 2022
Seetimes
राष्ट्रीय

शिक्षक भर्ती घोटाले में ईडी का बड़ा दावा- पार्थ चटर्जी ने अर्पिता को मुखौटा कंपनियों में निदेशक बनने को मजबूर किया

कोलकाता ,21 सितंबर (आरएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (डब्ल्यूबीएसएससी) भर्ती घोटाले में दायर अपने पहले आरोपपत्र में दावा किया है कि राज्य के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी ने अर्पिता मुखर्जी को मुखौटा कंपनियों की निदेशक बनने के लिए मजबूर किया था। इन कंपनियों का मकसद अवैध आय को चैनलाइज करना था। ईडी के सूत्रों ने आरोपपत्र का हवाला देते हुए कहा कि मुखर्जी ने जांच एजेंसी के सामने स्वीकार किया कि चटर्जी के निर्देशों का पालन करने वाले लेखाकारों में से एक उन पर इन कंपनियों में निदेशक बनने का दबाव बना रहा था।
केंद्रीय एजेंसी के अधिकारियों ने अब तक तीन कंपनियों सेंट्री इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड, सिम्बायोसिस मर्चेट प्राइवेट लिमिटेड और एचे एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड को ट्रैक किया है जहां अर्पिता मुखर्जी दो निदेशकों में से एक थीं। तीनों कंपनियों में दूसरे निदेशक कल्याण धर हैं, जिनकी शादी मुखर्जी की बहन से हुई है। धर पहले ही जांच एजेंसी को बता चुके हैं कि वह सिर्फ अपनी भाभी का नौकरीपेशा ड्राइवर था और उसकी जानकारी के बिना उसे निदेशक बना दिया गया था।
जैसा कि आरोपपत्र में उल्लेख किया गया है, मुखर्जी ने यह भी उल्लेख किया कि जब तक चटर्जी की बेटी सोहिनी चटर्जी भट्टाचार्य विदेश से भारत नहीं लौटतीं, तब तक वह इन कंपनियों के निदेशक के रूप में कार्य करती रहेंगी, जिसके बाद उनका नाम वापस ले लिया जाएगा। सोहिनी और उनके पति कल्याणमय भट्टाचार्य फिलहाल अमेरिका में सेटल हैं। सोहिनी भट्टाचार्य पश्चिम मिदनापुर जिले के पिंगला में बीसीएम इंटरनेशनल स्कूल की निदेशक भी हैं, जिसका नाम पूर्व मंत्री की दिवंगत पत्नी बबली चटर्जी के नाम पर रखा गया है। स्कूल के लिए खाते और फंडिंग के स्रोत भी ईडी की जांच के दायरे में हैं।
ईडी के आरोपपत्र में यह भी उल्लेख किया गया है कि मुखर्जी ने यह कहना स्वीकार किया कि उनके दो आवासों से बरामद किया गया 49.80 करोड़ रुपये और 5 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य का सोना पार्थ चटर्जी का था।

अन्य ख़बरें

त्रैमासिक परीक्षा दिलाकर लौट रहे 3 छात्रों की मौत

Newsdesk

एससी वर्ग की वैकेंसियों को जल्द भरेगी केंद्र सरकार, बैंकों से होगी शुरुआत; तीन महीने चलेगा अभियान

Newsdesk

राजस्थान में कांग्रेस नेताओं को हाई कमान की चेतावनी, पार्टी के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी नहीं करने की नसीहत

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy