26.5 C
Jabalpur
October 4, 2022
Seetimes
राष्ट्रीय

कोयला तस्करी मामला : अनुब्रत मंडल की 14 दिन और बढ़ाई गई न्यायिक हिरासत

कोलकाता ,21 सितंबर (आरएनएस)। पश्चिम बंगाल में करोड़ों रुपये के मवेशी तस्करी मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने बुधवार को तृणमूल कांग्रेस के नेता अनुब्रत मंडल की न्यायिक हिरासत 14 दिनों के लिए और बढ़ा दी।
तृणमूल कांग्रेस के बीरभूम जिलाध्यक्ष मंडल को 5 अक्टूबर को फिर उसी अदालत में पेश किया जाएगा, जो विजयादशमी का दिन है। इसका मतलब है कि उन्हें दुर्गा पूजा का त्योहारी सीजन सलाखों के पीछे बिताना होगा।
बुधवार को मंडल के वकील ने उनके मुवक्किल को जमानत दिलाने की पूरी कोशिश की। उन्होंने तर्क दिया कि चूंकि पशु तस्करी के मुख्य आरोपी इनामुल हक और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के कमांडेंट सतीश कुमार को जमानत दे दी गई है, इसलिए कोई कारण नहीं है कि मंडल की जमानत अर्जी स्वीकार नहीं की जाएगी।
उनके वकील ने यह भी बताया कि मंडल के खिलाफ सीबीआई का मुख्य आरोप यह था कि वह पश्चिम बंगाल में एक जिले से दूसरे जिले में मवेशियों की मुक्त आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार थे। इसलिए, जब सीमा पार मवेशियों की तस्करी के लिए वास्तव में जिम्मेदार लोग जमानत पर बाहर हैं, तो उनके मुवक्किल को जमानत देने से इनकार करने का कोई कारण नहीं था। उन्होंने जमानत देने के आधार के रूप में मंडल की बिगड़ती स्वास्थ्य स्थितियों को भी उजागर किया।
प्रतिवाद में सीबीआई के वकील ने कहा कि मंडल और उसके अंगरक्षक सहगल हुसैन दोनों के नए सबूत और नई संपत्ति हर दिन सामने आ रही है। ऐसे में अगर मंडल को इस समय जमानत दे दी जाती है तो पूरी जांच प्रक्रिया को झटका लग सकता है और एक प्रभावशाली व्यक्ति होने के नाते, मंडल जमानत याचिका का विरोध करते हुए सबूतों के साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश भी कर सकता है।
अंतत: दोनों पक्षों को सुनने के बाद सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश ने मंडल की सीबीआई हिरासत को 14 दिनों के लिए और बढ़ा दिया।

अन्य ख़बरें

संगठन के पद से इस्तीफा देकर ही प्रचार करें

Newsdesk

सट्टेबाजी से जुड़े विज्ञापनों को लेकर केंद्र सरकार सख्त

Newsdesk

पीएम गतिशक्ति के तहत गठित नेटवर्क योजना समूह ने 3 महत्वपूर्ण सड़क संपर्क परियोजनाओं की सिफारिश की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy