16.5 C
Jabalpur
December 1, 2022
सी टाइम्स
राष्ट्रीय

अमित शाह आज से 3 दिनों के जम्मू-कश्मीर दौरे पर

श्रीनगर ,02 अक्टूबर (आरएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 3 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के अपने तीन दिवसीय व्यस्त कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। अधिकारियों ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश की अपनी यात्रा के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री का उनके आगे व्यस्त कार्यक्रम है।
केंद्रीय गृहमंत्री कल (सोमवार) शाम करीब 5 बजे जम्मू पहुंचेंगे। वह शाम को गुर्जरों/बकरवालों और युवा राजपूत सभा के प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात करेंगे। फिर 4 और 5 अक्टूबर को उनके कार्यक्रम में रियासी जिले के माता वैष्णो देवी तीर्थ में पूजा-अर्चना करना शामिल है।
अमित शाह कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे और राजौरी, श्रीनगर और बारामूला जिलों का भी दौरा करेंगे, जहां वह विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मिलेंगे।
अधिकारियों ने बताया कि गृहमंत्री जिन स्थानों का दौरा करने जा रहे हैं, वहां सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।
अधिकारियों ने कहा, चार अक्टूबर की सुबह माता वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करने के बाद वह राजौरी के लिए उड़ान भरेंगे, जहां वह एक जनसभा को संबोधित करेंगे।
शाह अपने राजौरी दौरे के दौरान पहाड़ी समुदाय को अनुसूचित जनजाति (एसटी) का दर्जा देने की घोषणा कर सकते हैं। जम्मू-कश्मीर के राजौरी, पुंछ, बारामूला और हंदवाड़ा जिलों में पहाड़ी समुदाय की बड़ी आबादी है।
जम्मू लौटने पर वह श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स (एसकेआईसीसी) की तर्ज पर जम्मू कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स समेत कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे।
भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे जम्मू में मुलाकात करेगा, जहां केंद्र शासित प्रदेश की राजनीतिक स्थिति और पार्टी मामलों पर चर्चा की जाएगी।
वह 4 अक्टूबर को शाम करीब 5 बजे श्रीनगर के लिए उड़ान भरेंगे। वहीं 5 अक्टूबर को गृह मंत्री बारामूला में एक जनसभा को संबोधित करेंगे और घाटी में कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे।
श्रीनगर में शाह दोपहर में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ एक उच्चस्तरीय सुरक्षा समीक्षा बैठक की भी अध्यक्षता करेंगे।
बैठक में नागरिक प्रशासन, पुलिस, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) और जम्मू-कश्मीर और केंद्र की खुफिया एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे।
वह 5 अक्टूबर को शाम को नई दिल्ली लौटेंगे। फिर राजौरी और बारामूला में जनसभाओं को शाह का संबोधन भाजपा के लिए राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है। हालांकि, जम्मू-कश्मीर में 2022 में विधानसभा चुनाव की कोई संभावना नहीं है।
अपनी ओर से, भाजपा ने जम्मू-कश्मीर के अंतिम डोगरा राजा महाराजा हरि सिंह के जन्म के उपलक्ष्य में 23 सितंबर को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा के साथ दो महत्वपूर्ण प्रतिबद्धताओं को पहले ही पूरा कर लिया है।
भाजपा ने भी पहली बार एक गुर्जर गुलाम अली खटाना को राज्यसभा के लिए नामित किया और संसद में गुर्जर/बकरवाल समुदाय को प्रतिनिधित्व दिया।
चुनाव आयोग 25 नवंबर को जम्मू-कश्मीर की अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित करेगा। इसके बाद अन्य समयबद्ध चुनावी प्रक्रियाएं, जैसे नामांकनपत्र दाखिल करना, उनकी जांच, उम्मीदवारी वापस लेने का समय और चुनाव अभियान की अवधि का पालन करना होगा।
दिसंबर के मध्य तक जम्मू-कश्मीर में कड़ाके की सर्दी शुरू हो जाती है, जिससे महीने के उत्तरार्ध में चुनाव कराना असंभव हो जाता है।
पहले जम्मू-कश्मीर में अप्रैल-मई 2023 में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं और धारा 370 और 35ए के निरस्त होने के बाद लोकतांत्रिक प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर लोगों की भागीदारी होने की उम्मीद है।

अन्य ख़बरें

यूपी के मेडिकल कॉलेजों में होंगी बंपर भर्तियां

Newsdesk

भाजपा के लिए गुजरात आदर्श, कांग्रेस का एजेंडा संकीर्ण, जनभावनाओं से खेलती है आप : योगी

Newsdesk

शर्मिला ने टीआरएस की तुलना तालिबान से की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy