25.5 C
Jabalpur
December 2, 2022
सी टाइम्स
राष्ट्रीय

तमिलनाडु में जंगली हाथियों के हमले रोकने के लिए पीडीएस दुकानों को ऊंचा किया जाएगा

चेन्नई 04 Oct. (Rns): अनामलाई टाइगर रिजर्व (एटीआर) के वन अधिकारी जंगली हाथियों से जान माल की रक्षा के लिए वालपराई के थिरुमलाई में ऐसी सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) की दुकानों के निर्माण की प्रक्रिया शुरू की है जो ऊंची जगहों पर हो, जो हाथियों की पहुंच से बाहर हो। एटीआर अधिकारियों, राजस्व और नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकारियों समेत वन विभाग के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में इस परियोजना को अंतिम रूप दिया गया।

यदि वलपराई के थिरुमलाई में कार्यान्वित की जाने वाली परियोजना सफल होती है, तो इसे मानव-हाथी संघर्ष से प्रभावित स्थानों तक विस्तारित किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि, केरल वन विभाग ने हाल ही में अपने वन नीति में कटहल के पेड़ और अन्य फल देने वाले पेड़ लगाने का फैसला किया है जो वन भूमि के भीतर हाथियों को प्रिय हैं। केरल के वन विभाग से प्रेरणा लेते हुए तमिलनाडु भी अपनी वन भूमि पर कटहल के पेड़ लगाएगा ताकि जंगली हाथी वन भूमि की सीमा से लगे मानव बस्तियों में न जाएं।

वन विभाग और नागरिक आपूर्ति विभाग ने पीडीएस वस्तुओं तक जंगली हाथियों की पहुंच को रोकने के लिए एक मॉडल राशन की दुकान बनाने की पहल की है क्योंकि अगले तीन महीने हाथियों के प्रवास की अवधि होगी। बैठक में भाग लेने वाली राजस्व टीम का हिस्सा रहे नगरपालिका विभाग के अधिकारियों ने एटीआर अधिकारियों को वालपराई में पर्यटन स्थलों पर क्या करें और क्या न करें, साइन बोर्ड लगाने के लिए सूचित किया।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि, एटीआर क्षेत्र की अधिकांश पीडीएस दुकानों और वन भूमि की सीमा से लगे अन्य मानव निवासों में ऐसी दुकानें नहीं हैं जो कंक्रीट की संरचना हैं। ऐसे कई घटनाएं हुई हैं जिनमें जंगली हाथियों ने चीनी और गुड़ की दुकानों को टारगेट किया है।

अन्य ख़बरें

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

Newsdesk

श्रद्धा हत्याकांड : आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट खत्म

Newsdesk

मप्र के 34 फीसदी घरों तक पहुंचा नल का जल

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy