28.5 C
Jabalpur
February 7, 2023
सी टाइम्स
राष्ट्रीय हेल्थ एंड साइंस

भारत बायोटेक की इंट्रानेजल कोविड वैक्सीन की कीमत 800 रुपये

हैदराबाद, 27 दिसंबर (आईएएनएस)| वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक का कोविड-19 के लिए इंट्रानेजल वैक्सीन जल्द ही बूस्टर डोज के रूप में देश में पेश किया जाएगा। हैदराबाद स्थित कंपनी ने कहा कि इन्कोवैक (आईएनसीओवीएसीसी) (बीबीवी 154) नामक वैक्सीन अब कोविन पर उपलब्ध है, और निजी बाजारों के लिए इसकी कीमत 800 रुपये है, वहीं केंद्र और राज्य सरकारों को आपूर्ति के लिए यह 325 रुपये की है।

पिछले महीने भारत बायोटेक को केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) से इन्कोवैक की बूस्टर डोज के उपयोग के लिए मंजूरी मिली थी।

यह एसएआरएस-सीओवी-2 स्पाइक प्रोटीन के साथ एक पुन: संयोजक प्रतिकृति कमी वाले एडेनोवायरस वेक्टरेड वैक्सीन है।

कंपनी ने कहा कि इस वैक्सीन कैंडिडेट का सफल परिणामों के साथ पहले, दूसरे और तीसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल में मूल्यांकन किया गया था।

इन्कोवैक को विशेष रूप से नाक की बूंदों के माध्यम से इंट्रानेजल डिलीवरी की अनुमति देने के लिए तैयार किया गया है। नाक वितरण प्रणाली को निम्न और मध्यम आय वाले देशों में लागत प्रभावी बनाने के लिए डिजाइन और विकसित किया गया है।

भारत बायोटेक के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. कृष्णा एल्ला ने कहा, हमने इस महामारी के दौरान अपने लिए निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त किया है। हमने दो अलग-अलग प्लेटफार्मों से दो अलग-अलग डिलीवरी सिस्टम के साथ कोवैक्सीन और इन्कोवैक को विकसित किया है। वेक्टर इंट्रानेजल डिलीवरी प्लेटफॉर्म हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थितियों और महामारी के दौरान तेजी से उत्पाद विकास, स्केल-अप, आसान और दर्द रहित टीकाकरण की क्षमता देता है।

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय, सीडीएससीओ, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार, प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड और वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सेंट लुइस को उनके समर्थन और मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया।

बिना सुई के टीकाकरण के रूप में, भारत बायोटेक का इन्कोवैक भारत की पहली ऐसी बूस्टर डोज होगी।

तीसरी डोज या एहतियाती डोज की बात आने पर भारत के पास अब अधिक विकल्प होंगे।

वैक्सीन बनाने वाली कंपनी ने कहा कि इन्कोवैक बड़े पैमाने पर टीकाकरण को चिंता के उभरते वेरिएंट से बचाने में सक्षम बनाता है।

प्राथमिक खुराक अनुसूची के रूप में इन्कोवैक का मूल्यांकन करने के लिए नैदानिक परीक्षण किए गए थे, और उन विषयों के लिए बूस्टर खुराक के रूप में, जिन्होंने पहले भारत में दो सामान्य रूप से प्रशासित कोविड टीकों की दो खुराक प्राप्त की थी।

इन्कोवैक को वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सेंट लुइस के साथ साझेदारी में विकसित किया गया, जिसने पुन: संयोजक एडेनोवायरल वेक्टर निर्माण को डिजाइन और विकसित किया था और प्रभावकारिता के लिए प्रीक्लिनिकल स्टडी में मूल्यांकन किया था।

भारत बायोटेक द्वारा प्रीक्लिनिकल सेफ्टी इवैल्यूएशन, बड़े पैमाने पर मैन्युफैक्च रिंग स्केल-अप, फॉमूर्लेशन और डिलीवरी डिवाइस डेवलपमेंट से संबंधित प्रोडक्ट डेवलवमेंट, जिसमें ह्यूमन क्लिनिकल ट्रायल भी शामिल हैं।

प्रोडक्ट डेवलपमेंट और क्लिनिकल ट्रायल को आंशिक रूप से भारत सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग, कोविड सुरक्षा कार्यक्रम के माध्यम से वित्त पोषित किया गया।

अन्य ख़बरें

बहती नाक से पीडि़त हैं तो अपनाएं ये 5 घरेलू नुस्खे, जल्द मिलेगा आराम

Newsdesk

दिसंबर-जनवरी में आईजीआई हवाईअड्डे पर 846 घरेलू, 458 अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट्स हुई लेट

Newsdesk

अडानी पर ‘आप’ ने प्रधानमंत्री से पूछे पांच सवाल

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy