Seetimes
World

कोविड के बढ़ते केसों के बीच अमेरीका, भारत के साथ ‘निकटता’ से काम कर रहा है

न्यूयॉर्क, 24 अप्रैल (आईएएनएस)| अमेरिकी प्रसाशन के प्रवक्ता जेन साकी के अनुसार, राष्ट्रपति जो बिडेन का प्रशासन भारतीय अधिकारियों के साथ “निकटता से काम” कर रहा है ताकि देश को सबसे खराब कोविड 19 उछाल का सामना करने में मदद मिल सके। हालांकि, न तो उन्होंने और न ही अन्य अधिकारीओं ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका टीके के कच्चे माल के निर्यात पर प्रतिबंध हटा देगा, और उन्हें एक्सट्राजैनिका टीकों के अप्रयुक्त भंडार को साझा करेगा जैसा कि भारत ने मांग की थी।

उन्होंने शुक्रवार को कहा, “हम संकट को दूर करने में मदद करने के तरीकों की पहचान करने के लिए राजनीतिक और विशेषज्ञों दोनों स्तरों पर भारतीय अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि “इस कठिन समय से निकलने के लिए हम कैसे मदद कर सकते हैं, इस के बारे में चर्चायें चल रही हैं।”

इसके लिए टीके या कच्चे माल उपलब्ध कराने के सवालों को दरकिनार करते हुए, साकी ने अमेरिका द्वारा महामारी और अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों के लिए दी जाने वाली सहायता की बात कही।

उन्होंने कहा, “महामारी के शुरूआती चरणों से, हमने भारत को आपातकालीन राहत आपूर्ति, चिकित्सा उपभोग्य सामग्रियों, भारतीय राज्य और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए महामारी प्रशिक्षण और वेंटिलेटर प्रदान किए हैं।”

पसाकी ने दावा किया कि अमेरिका ने भविष्य में महामारी की तैयारी करने और वर्तमान में हम जो सामना कर रहे हैं, उससे निपटने में मदद करने के लिए स्वास्थ्य सहायता में 1.4 बिलियन डॉलर दिए हैं।

यूएसएआईडी के अनुसार उसके द्वारा उद्धृत 1.4 बिलियन डॉलर 20 साल की अवधि में भारत में स्वास्थ्य कार्यक्रमों के लिए कुल अमेरिकी सहायता थी, जो एजेंसी अंतरराष्ट्रीय सहायता देती है।

कोविड 19 महामारी से निपटने के लिए केवल 5.9 मिलियन डॉलर सीधे दिए गए थे, और यह पिछले साल पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा किया गया था।

राज्य विभाग के प्रधान उप प्रवक्ता जालिना पोर्टर, जिन्हें वैक्सीन कच्चे माल के निर्यात पर प्रतिबंध के बारे में भी पूछा गया था, ने सीधा जवाब देने से परहेज किया।

इसके बजाय, उन्होंने कहा, “हमने आवश्यक आपूर्ति की आवाजाही को आसान बनाने के लिए और उनकी आपूर्ति श्रृंखलाओं की अड़चनों को दूर करने के लिए भारत के साथ मिलकर काम करना जारी रखा है। लेकिन हम इसे उच्चतम स्तर पर लड़ने के लिए भारत में अपने सहयोगियों के साथ सहयोग करना जारी रखेंगे।”

अन्य ख़बरें

रिकॉर्ड तोड़ हीटवेव, मडस्लाइड की चपेट में कोलोराडो

Newsdesk

गुटेरेस ने अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र परिसर पर तालिबान के हमले की निंदा की

Newsdesk

कोरोना के वैश्विक मामले बढ़कर 19.72 करोड़ हुए

Newsdesk

Leave a Reply