Seetimes
National

कोरोना मरीजों का परिजन कर रहे इलाज, कलेक्टर ने दी एफआईआर की चेतावनी

छतरपुर, 25 अप्रैल (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में कोरोना के मरीजों के परिजन ही इलाज की जिम्मेदारी संभाले हुए हैं, यह स्थिति जिला प्रशासन के लिए मुसीबत का सबब बन गई है। जिलाधिकारी शीलेंद्र सिंह ने चेतावनी दी है कि जो लोग ऐसा कर रहे हैं, उनके खिलाफ पुलिस में प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने जिला चिकित्सालय में भर्ती कोविड संक्रमितों के परिजनों से अपील की है कि आइसोलेशन एवं कोविड वार्ड में भर्ती मरीज के परिजन नहीं जाएं और खुद भी संक्रमित होने से बचें तथा दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएं।

कोविड और आइसोलेशन वार्ड का आलम यह है कि मरीज के परिजन जबरदस्ती किसी दूसरे संक्रमित मरीज की ऑक्सीजन की नली निकाल लेते हैं और अपने अपने का इलाज करने लगते हैं। ऐसे लोगों पर प्रशासन निगरानी रख रहा है। मरीज के स्वस्थ होने पर सभी लोगों के खिलाफ एफआईआर की कार्यवाही की जाएगी।

प्रशासन ने कोविड एवं आइसोलेशन वार्डो में बार-बार आने-जाने वाले मरीजों के परिजनों को सचेत किया है कि चिकित्सालय के उपचार के किसी भी संसाधन से छेड़छाड़ नहीं करें और खुद से अपने मरीज का इलाज भी नहीं करें। कोविड संक्रमित वार्ड में भर्ती दूसरे मरीज भी परिजनों के आने-जाने और उपस्थित रहने से बेवजह परेशान तो होते ही हैं और इससे कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन भी होता है और कोविड संक्रमण फैलने का खतरा भी बढ़ जाता है। इसीलिए परिजन, वार्ड में भर्ती दूसरे मरीज की परेशानी का कारण न बनें।

अन्य ख़बरें

सरकार बुधवार को राज्यसभा में 5 विधेयक पेश करेगी

Newsdesk

भारत में कोविड मामलों में उछाल, एक दिन में 42,625 मामले हुए दर्ज

Newsdesk

बेंगलुरु में माइक्रो कंटेनमेंट जोनों की संख्या बढ़ी, सिविक इकाईयां अलर्ट मोड पर

Newsdesk

Leave a Reply