Seetimes
Headlines Health & Science National

बिहार में कोविड-19 के 11,801 नए मरीज, 24 घंटों में 67 लोगों की मौत

पटना, 27 अप्रैल (आईएएनएस)| बिहार में कोरोना की दूसरी लहर जारी है। राज्य में कोरोना संक्रमण के सोमवार को 11,801 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में कोरोना के एक्टिव (सक्रिय) मरीजों की संख्या 90 हजार के करीब पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में 67 संक्रमितों की मौत हो गई है। इस बीच, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को उच्चस्तरीय बैठक कर अधिकारियों को कई निर्देश दिए हैं।

राज्य में सोमवार को पटना सहित छह जिलो में पांच सौ से अधिक नए कोरोना संक्रमित मिले हैं।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 11,801 नए मामलों की पुष्टि हुई है। राजधानी पटना में सर्वाधिक 2,720 नए संक्रमित मिले हैं, जबकि गया में 655, बेगूसराय में 549, औरंगाबाद में 550, गोपालगंज में 500 तथा सारण में 568 नए कोरोना संक्रमित मिले। राज्य में एक दिन में कुल 80,461 नमूनों की जांच की गई।

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 9,228 लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त हो कर अपने घर लौट गए हैं। फिलहाल राज्य में रिकवरी रेट 77.88 प्रतिशत है।

पिछले 24 घंटों में कोरोना के 11,801 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में कोविड-19 के सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 89,660 तक पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग के रिपोर्ट के मुताबिक, इस दौरान राज्य में 67 कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई। राज्य में अब संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 2,222 तक पहुंच गया है।

इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में मुख्यमंत्री ने नमूनों की जांच बढ़ाने तथा जांच रिपोर्ट जल्द उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने ऑक्सीजन आपूर्ति को लेकर भी जरूरी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हंै। विशेषज्ञों के मुताबिक अभी और बढ़ने की संभावना है। उन्होंने कहा कि कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर प्रत्येक पहलू पर विचार करें और परिस्थिति के अनुसार जरूरी कदम उठाएं।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा, “कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ जांच की रिपोर्ट जल्द उपलब्ध कराया जाए, इससे संक्रमितों का समय पर इलाज किया जा सकेगा।”

उन्होंने अन्य राज्यों में चुनाव के लिए जो भी पुलिस बल बाहर गई है, वापस लौटने पर उनका जांच करवाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आयुष चिकित्सकों, युनानी चिकित्सकों, दंत चिकित्सकों, सेवानिवृत्त चिकित्सकों का भी इस माहामारी से निपटने में सहयोग लिया जाए।

अन्य ख़बरें

बिहार पुलिस मुख्यालय में बनेगा इन्वेस्टिगेशन मॉनिटरिंग सेल, नीतीश मंत्रिमंडल ने दी मंजूरी

Newsdesk

बॉम्बे हाईकोर्ट का निर्देश : महाराष्ट्र सरकार फर्जी टीकाकरण रैकेट का पदार्फाश करे

Newsdesk

कांग्रेस नामदारों की पार्टी : सिंधिया

Newsdesk

Leave a Reply