Seetimes
Health & Science National

गुरुग्राम में कोविड मामलों में बढ़ोत्तरी के बीच वैक्सीन का संकट

गुरुग्राम, 5 मई (आईएएनएस)| गुरुग्राम में तेजी से बढ़ते मामले के बीच ऑक्सीजन संकट के बाद, अब कोविड टीका की कमी का सामना करना पड़ रहा है। जबकि हरियाणा सरकार ने 66 लाख वैक्सीन खुराक के लिए आदेश दिया है, राज्य को केंद्र द्वारा केवल 4.3 लाख टीके आवंटित किए गए हैं।

इस बीच, राज्य ने 2 मई से 18-44 आयु वर्ग के लिए टीकाकरण अभियान शुरू किया है।

गुरुग्राम में, निजी अस्पतालों ने खुराक की अनुपलब्धता के कारण अपने टीकाकरण केंद्रों को बंद कर दिया है।

अस्पताल के प्रबंधन ने कहा कि वैक्सीन निर्माताओं ने उन्हें प्रतीक्षा सूची में डाल दिया है और आवश्यक खुराक प्राप्त करने में लगभग दो से तीन महीने लग सकते हैं।

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, वे टीकाकरण की दूसरी खेप की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

गुरुग्राम के मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीरेंद्र यादव ने कहा, “हमें अभी तक राज्य से अधिक टीके नहीं मिले हैं। जैसे ही हम वैक्सीन प्राप्त करते हैं, हम अभियान को गति देंगे। स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही सरकार को सूचित कर दिया है।”

जिला स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 3 मई तक 45 से 59 वर्ष की आयु के 1,78,200 से अधिक लोगों ने अपनी पहली खुराक ली, लेकिन उनमें से केवल 13,000 लोगों को ही दूसरा शॉट मिला है।

37 सत्र स्थलों पर मंगलवार को 45 से अधिक आयु वर्ग के कुल 4,017 लोगों को शहर में टीका लगाया गया है।

कुल मिलाकर, 4.28 लाख लोग डोज पाने के पात्र हैं, जिनमें से 3.80 लाख लोग पहले ही शॉट ले चुके हैं।

इस बीच, स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि निजी अस्पतालों को अपने यहां वैक्सीन की खुराक की व्यवस्था करनी होगी।

यादव ने कहा, “हम निजी अस्पतालों को वैक्सीन की खुराक प्रदान करने के लिए जिम्मेदार नहीं हैं। अस्पतालों को सीधे कंपनियों से टीका लेना चाहिए।”

स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह भी बताया कि, वैक्सीन की सीमित आपूर्ति के कारण जिले में सत्र साइटें घटकर 59 हो गई हैं।

अप्रैल के पहले सप्ताह तक 37 सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों और 52 निजी अस्पतालों में टीकाकरण हुआ।

नाम ना बताने की शर्त पर गुरुग्राम के एक प्रमुख अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा, “अस्पतालों को निर्माताओं से कोई वैक्सीन स्टॉक नहीं मिल रहा है क्योंकि वे केंद्रीय और राज्य सरकारों को खुराक देने के लिए बाध्य हैं। स्टॉक की अनुपलब्धता के कारण दूसरी खुराक लाभार्थी जो हर दिन सीधे अस्पताल पहुंच रहे हैं, उन्हें वापस जाने के लिए कहा जाता है।”

सेक्टर 56 के निवासी तपन यादव (54) ने कहा कि वह पिछले चार दिनों में कई निजी और सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं का दौरा करने के बावजूद वैक्सीन का दूसरा शॉट नहीं ले पाए हैं। जब कोविड वायरस अपने चरम पर होता है, टीकाकरण की प्रक्रिया को खासकर बुजुर्गों के लिए सुव्यवस्थित किया जा सकता है।”

अन्य ख़बरें

इजराइल दूतावास विस्फोट मामले में स्पेशल सेल ने 4 कश्मीरी छात्रों को किया गिरफ्तार

Newsdesk

क्या 26 जून को दिल्ली के उपराज्यपाल से मिलने ट्रैक्टर से जाएंगे किसान?, बॉर्डर पर चल रहा किसानों का मंथन

Newsdesk

प्रधानमंत्री मोदी बोले- जम्मू-कश्मीर में परिसीमन के बाद शीघ्र होंगे विधानसभा चुनाव

Newsdesk

Leave a Reply