Seetimes
Sports

एशियाई मुक्केबाजी आज से, भारत के 7 पदक पहले ही पक्के

दुबई, 24 मई (आईएएनएस)| एएसबीसी एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप 2021 का आज से दुबई में आगाज हो रहा है और राष्ट्रमंडल खेलों के कांस्य पदक विजेता मोहम्मद हुसामुद्दीन पहले दिन सोमवार को भारतीय चुनौती का आगाज करेंगे। दुबई में रविवार को इस 4,00,000 अमेरिकी डॉलर इनामी राशि वाले इवेंट के लिए ड्रॉ निकाला गया। ड्रॉ निकलने के साथ ही भारत के खाते में कम से सात कांस्य पदक पक्के हो गए क्योंकि महिला वर्ग में सात मुक्केबाजों को सीधे सेमीफाइनल में उतरना है।

छह बार की विश्व चैम्पियन एमसी मैरी कॉम (51 किग्रा), लालबुतसाई (64 किग्रा), लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा), पूजा रानी (75 किग्रा), मोनिका (48 किग्रा), स्वीटी (81 किग्रा) और अनुपमा (प्लस 81 किग्रा) सहित सात भारतीय महिला मुक्केबाज सेमीफाइनल चरण से अपने अभियान की शुरुआत करेंगी।

इसी तरह पुरुषों के वर्ग में छह मुक्केबाज क्वार्टर फाइनल से शुरुआत करेंगे, जिनमें अमित पंघल (52 किलो ग्राम), वरिंदर सिंह (60 किग्रा), विकास कृष्ण (69 किग्रा), आशीष कुमार (75 किग्रा), संजीत (91 किग्रा) और नरेंद्र शामिल हैं। ये सभी अगर अपना एक मुकाबला जीत लेते हैं तो इनके नाम भी कम से कम कांस्य पदक पक्का हो जाएगा।

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) और यूएई बॉक्सिंग फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किए जा रहे इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में पुरुषों को उनकी महिला समकक्षों की तुलना में अपेक्षाकृत कठिन ड्रॉ दिया गया है। हुसामुद्दीन के अलावा 2013 में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले शिव थापा (64 किग्रा) और सुमित सांगवान (81 किग्रा) भी पहले दिन अपने अभियान की शुरूआत करेंगे।

मौजूदा चैंपियन अमित पंघल को पहले दौर में बाई मिला है। वह उन छह भारतीय पुरुषों में शामिल हैं जो अंतिम-8 से शुरुआत करेंगे। पंघल के अंतिम-8 दौर में मंगोलिया के एनखमनदाख खरखू के खिलाफ भिड़ने की उम्मीद है।

यह जोड़ी आखिरी बार जॉर्डन में ओलंपिक क्वालीफायर में भिड़ी थी, जहां, दोनों के बीच रोमांचक मुकाबला हुआ था। पंघन ने हालांकि वह मुकाबला अपने नाम किया था। ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके एक अन्य भारतीय मुक्केबाज आशीष कुमार (75 किग्रा), जिन्हें पहले दौर में बाई मिला है को विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाले कजाकिस्तान के अबिलखान अमानकुल से चुनौती मिलने की उम्मीद है। इसी तरह नरेंद्र (प्लस 91 किग्रा) वर्ग में पहले दौर में दो बार विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीत चुके कजाखस्तान के कामशीबेक कुंकाबायेव से भिड़ेंगे।

शुरुआत में इस टूर्नामेंट में 27 से अधिक देशों की भागीदारी की उम्मीद थी। लेकिन कोरोना के कारण हाल ही में लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों की वजह से हालांकि कुछ देश इसमें भाग नहीं ले सके। इस टूर्नामेंट में भारत, उज्बेकिस्तान, फिलीपींस और कजाकिस्तान जैसे मजबूत मुक्केबाजी देशों सहित 17 देशों के 150 मुक्केबाज अपनी श्रेष्ठता साबित करने का प्रयास करेंगे।

2021 एशियाई चैंपियनशिप के मैच सोमवार से शुरू होंगे। 2019 में बैंकॉक में आयोजित हुए इस चैंपियनशिप के पिछले संस्करण में भारतीय टीम ने दो स्वर्ण सहित 13 पदक जीते थे।

भारतीय टीम इस प्रकार है :

पुरुष : अमित पंघल (52 किग्रा), मोहम्मद हुसामुद्दीन (56 किग्रा), वरिंदर सिंह (60 किग्रा), शिव थापा (64 किग्रा), विकास कृष्ण (69 किग्रा), आशीष कुमार (75 किग्रा), सुमित सांगवान (81 किग्रा), संजीत (91 किग्रा) और नरेंद्र (प्लस 91 किग्रा)।

महिला : मोनिका (48 किग्रा), एमसी मैरी कॉम (51 किग्रा), साक्षी (54 किग्रा), जैस्मीन (57 किग्रा), सिमरनजीत कौर (60 किग्रा), लालबुतसाई (64 किग्रा), लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा), पूजा रानी (75 किग्रा), स्वीटी (81 किग्रा) और अनुपमा (प्लस 81 किग्रा)।

अन्य ख़बरें

न्यूजीलैंड की गेंदबाजी में विविधता से कोहली को हो सकती है परेशानी : पार्थिव

Newsdesk

डब्ल्यूटीसी फाइनल के विजेता को 12 करोड़ और उपविजेता को मिलेंगे 6 करोड़ रूपये

Newsdesk

इंग्लैंड में रन बनाने के लिए सेट होने के बाद लेट शॉट खेलना होगा : रहाणे

Newsdesk

Leave a Reply