Seetimes
Health & Science Lifestyle

‘दुर्लभ’ जीनोम साबित करता है कि कोरोना चीनी लैब में बनाया गया : अमेरिकी विशेषज्ञ

वॉशिंगटन, 7 जून (आईएएनएस)| दो अमेरिकी विशेषज्ञों ने अपने एक शोध में दावा किया है कि कोरोनोवायरस चीन के कुख्यात वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से लीक हुआ है। मीडिया ने सोमवार को बताया कि शोध में कहा गया है कि कोविड के दुर्लभ जीनोम से पता चलता है कि वायरस एक चीनी प्रयोगशाला में विकसित किया गया था।

वॉल स्ट्रीट जर्नल ने बताया कि डॉ स्टीफन क्वे और रिचर्ड मुलर के अनुसार, कोविड एक आनुवंशिक फुटप्रिंट है जो प्राकृतिक कोरोनावायरस में कभी नहीं देखा गया है।

क्वे अमेरिका स्थित बायोफार्मास्युटिकल कंपनी एटोसा थेरेप्यूटिक्स के संस्थापक हैं, जबकि मुलर कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय बर्कले में भौतिकी के प्रोफेसर हैं।

विशेषज्ञों ने लिखा, “प्रयोगशाला रिसाव परिकल्पना के पक्ष में सबसे सम्मोहक कारण विज्ञान में ²ढ़ता से आधारित है ।”

क्वे और मुलर ने कहा कि कोविड 19 में जीनोम अनुक्रमण ‘सीजीजी सीजीजी’ (जिसे ‘डबल सीजीजी’ भी कहा जाता है) है, जो 36 अनुक्रमण पैटर्न में से एक है। सीजीजी का उपयोग शायद ही कभी कोरोनवीरस की श्रेणी में किया जाता है, जो सीओवी 2 के साथ पुन संयोजन कर सकते हैं।

विशेषज्ञों ने कहा, “वास्तव में, कोरोनवीरस के पूरे वर्ग में, जिसमें सीओवी 2 शामिल है, ‘सीजीजी सीजीजी’ संयोजन कभी भी स्वाभाविक रूप से नहीं पाया गया है। ”

इस प्रकार, जो लोग कोविड के इस थ्योरी को बता रहे है कि कोरोना जानवरों से मानव जाति में फैला है, उन लोगों को “यह बताना चाहिए कि नोवल कोरोनवायरस” जब यह उत्परिवर्तित या पुनसंर्योजित होता है, तो इसका सबसे कम पसंदीदा संयोजन, डबल सीजीजी क्यों है?

विशेषज्ञों ने कहा कि इसने लैब के गेन ऑफ फंक्शन शोधकतार्ओं द्वारा किए गए विकल्प को क्यों दोहराया?

उन्होंने जोर दे कर कहा,” हां, यह उत्परिवर्तन के माध्यम से या²च्छिक रूप से हो सकता था। लेकिन क्या आप ऐसा मानते हैं? कम से कम, यह तथ्य तो मानना ही होगा कि कोरोनवायरस, अपनी सभी या²च्छिक संभावनाओं के साथ, मानव शोधकतार्ओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले दुर्लभ और अप्राकृतिक संयोजन को ले गया है।”

अन्य सबूत के साथ विशेषज्ञ बताते हैं, कि जब एसएआरएस और एमईआरएस के लिए जिम्मेदार कोरोनविर्यूज के साथ तुलना की जाती है, इसलिए उन्होंने कोव 2 की आनुवंशिक विविधता में नाटकीय अंतर का उल्लेख किया है।

विशेषज्ञों ने दावा किया कि एसएआरएस और एमईआरएस दोनों की प्राकृतिक उत्पत्ति होने की पुष्टि की गई थी। और जब कोई वायरस मानव आबादी में फैलता है, तो यह सबसे अधिक संक्रामक रूपों के हावी होने तक तेजी से विकसित होने के लिए जाना जाता है। हालांकि, कोविड 19 ने उस तरह से काम नहीं किया।

यह मनुष्यों में पहले से ही एक अत्यंत संक्रामक संस्करण में रूपांतरित हो गया था। कोई गंभीर वायरल सुधार तब तक नहीं हुआ, जब तक कि इंग्लैंड में कई महीनों बाद मामूली बदलाव नहीं हुए।

उन्होंने कहा कि यह अभूतपूर्व है, और अनुकूलन की एक लंबी अवधि का सुझाव देता है जो इसके सार्वजनिक प्रसार से पहले था।

हालाँकि, चीन ने वुहान लैब रिसाव सिद्धांत को ‘बेहद असंभव’ के रूप में खारिज कर दिया है और अमेरिका पर ‘राजनीतिक हेरफेर’ का आरोप लगाया है।

अन्य ख़बरें

आईटीबीपी ने लद्दाख की 18,000 फीट बर्फीली ऊंचाई पर किया योग

Newsdesk

निरोग और स्वस्थ रहने के लिए करें योग : शिवराज

Newsdesk

ब्रिटेन में 24 घंटे में कोरोना के 9,284 मामले आए, कुल संख्या अब 4,630,040 हुई

Newsdesk

Leave a Reply