Seetimes
Headlines Health & Science World

मंगोलिया में कोविड 19 मामले एक लाख के पार पहुंचे

उलान बतोर, 23 जून (आईएएनएस)| मंगोलिया के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा किदेश में पिछले 24 घंटों में 2,213 नए कोविड 19 मामले दर्ज किए, जिसके बाद देश में केसों की संख्या बढ़कर 100,263 हो गई है।

नवीनतम पुष्ट मामलों में से एक विदेश से आयात किया गया था, और शेष स्थानीय संक्रमण थे।

मंगोलिया का कोविड 19 उछाल जारी है, और जून के मध्य से, 33 लाख की आबादी वाले देश में प्रतिदिन 2,000 से अधिक कोविड 19 संक्रमण दर्ज किए गए हैं।

यह वायरस देश की राजधानी उलानबटोर और सभी 21 प्रांतों में फैल चुका है।

उलानबटोर, जो देश की कुल आबादी के आधे से अधिक का घर है, कोविड 19 से सबसे ज्यादा प्रभावित है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, देश में कुल पुष्ट मामलों में से 81,100 से अधिक राजधानी शहर में पाए गए।

वर्तमान में, सभी 21 प्रांतों के सामान्य अस्पतालों और राजधानी शहर के 40 से अधिक अस्पतालों में केवल गंभीर कोविड 19 रोगी ही मिल रहे हैं। अस्पताल के बिस्तरों और चिकित्सा कर्मचारियों की कमी के कारण, देश मार्च से बिना लक्षण वाले या हल्के कोविड 19 रोगियों का उनके घरों पर इलाज कर रहा है।

इस बीच, हाल के दिनों में इस बीमारी के कारण देश में प्रतिदिन लगभग 10 या उससे अधिक लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। पिछले दिनों 10 लोगों की मौत के बाद देश में राष्ट्रीय स्तर पर मरने वालों की संख्या बढ़कर 487 हो गई।

देश के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, गंभीर रूप से बीमार कोविड 19 रोगियों के लिए आवश्यक दवाओं और उपकरणों की मंगोलिया में कमी है।

एशियाई देश ने अपनी कुल आबादी के कम से कम 60 प्रतिशत को कवर करने के उद्देश्य से फरवरी के अंत में कोविड 19 के खिलाफ एक राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान शुरू किया था।

मंत्रालय के अनुसार, कुल 1,918,397 मंगोलियाई लोगों को अब तक टीकों की पहली खुराक मिली है, जिसमें 1,709,223 लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री सेरिजव एनकबोल्ड ने नागरिकों से टीका लगवाने का आग्रह करते हुए कहा, “संक्रमित लोगों में से अधिकांश को टीका नहीं लगाया गया है या उन्हें पहली खुराक मिली है। गंभीर बीमारी को कम करने और वायरस से जीवन बचाने के लिए टीका सबसे महत्वपूर्ण उपकरण है।”

मंगोलिया ने मार्च 2020 में अपने पहले आयातित कोविड 19 मामले की सूचना दी थी और नवंबर में अपने पहले स्थानीय रूप से प्रसारित मामले की पुष्टि की थी।

तब से, देश ने महामारी के कारण कई राष्ट्रव्यापी और आंशिक तालाबंदी लागू की है।

देश के राज्य आपातकालीन आयोग के तहत वैज्ञानिकों की परिषद ने एक बार फिर से देशव्यापी तालाबंदी करने का प्रस्ताव रखा है ताकि कोविड 19 की वृद्धि को रोका जा सके।

अन्य ख़बरें

सोशल मीडिया पर चर्चा: पाक नागरिक अफगानिस्तान के खिलाफ युद्ध छेड़ रहे हैं

Newsdesk

ईरान ने तेल टैंकर पर हमले को लेकर इजराइल के आरोपों को किया खारिज

Newsdesk

मप्र में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने से सरकार हुई सतर्क

Newsdesk

Leave a Reply