Seetimes
Health & Science

उत्तर भारत में 40 फीसदी लोगों को कोविड से उबरने पर भी 1 साल तक लक्षण महसूस हुए

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)| उत्तर भारत में लगभग 40 प्रतिशत लोग कम से कम एक पोस्ट-कोविड लक्षण जैसे थकान, दर्द और सांस फूलने जैसी दिक्कतों से करीब एक साल तक पीड़ित रहे हैं। मैक्स अस्पताल द्वारा गुरुवार को किए गए एक अध्ययन में यह आंकड़े सामने आए हैं, जिसमें चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं कि कोरोना से ठीक होने के बावजूद लोगों में एक साल तक इसका कम से कम एक लक्षण पाया गया है।

टीम ने 990 आरटी-पीसीआर-पुष्टि किए गए कोविड-19 रोगियों को उत्तर भारत के तीन अस्पतालों में तीन महीने से 12 महीने के बीच भर्ती कराए गए लोगों पर अध्ययन किया।

मैक्स हेल्थकेयर के समूह चिकित्सा निदेशक, प्रमुख शोधकर्ता डॉ. संदीप बुद्धिराजा ने एक बयान में कहा कि निष्कर्षों से पता चला है कि कुल मिलाकर, लंबे समय तक कोविड लगभग 40 प्रतिशत मामलों में हुआ।

अध्ययन किए गए 990 रोगियों में से, 31.8 प्रतिशत रोगियों में तीन महीने से अधिक समय के बाद भी लक्षण पाए गए और 11 प्रतिशत रोगियों में बीमारी की शुरुआत से 9 से 12 महीनों तक भी किसी न किसी रूप में लक्षण बने रहे।

12.5 प्रतिशत मामलों में थकान सबसे अधिक पाई गई, इसके बाद मांसपेशियों में दर्द (9.3 प्रतिशत) का स्थान रहा। जिन लोगों को शुरूआत में गंभीर बीमारी थी, उनमें सांस फूलने की शिकायत भी अधिक बार दर्ज की गई थी।

रोगियों ने अवसाद, चिंता, ब्रेन फॉग और नींद संबंधी विकारों जैसे न्यूरो-मनोरोग लक्षणों की भी सूचना दी।

बुद्धिराजा ने कहा कि इन पोस्ट-कोविड लक्षणों का उम्र से भी महत्वपूर्ण संबंध देखने को मिला है।

30 वर्ष से कम (2.3 प्रतिशत) लोगों में थकान की शिकायत देखने को मिली, लेकिन 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बुजुर्गों (21.5 प्रतिशत) में थकान की दिक्कत अधिक देखी गई।

दूसरी ओर, न्यूरो-मनोचिकित्सीय लक्षण, जैसे चिंता, अवसाद, ब्रेन-फॉग, और नींद विकार, 9.0 प्रतिशत मामलों में रिपोर्ट किए गए। बुद्धिराजा ने कहा कि यह महत्वपूर्ण रूप से पहले से मौजूद बीमारियों से जुड़ा था, न कि उम्र, लिंग या बीमारी की गंभीरता के साथ।

एक तिहाई से अधिक ने कम से कम एक सहरुग्णता (पहले से कोई बीमारी) की सूचना दी, जबकि 20 प्रतिशत से अधिक को मधुमेह और उच्च रक्तचाप (20.4 प्रतिशत) था।

अध्ययन ने निष्कर्षों को वर्तमान में रिपोर्ट किए गए कोविड-19 नंबरों के लिए भी एक्सट्रपलेशन (बहिर्वेशन) किया।

अस्पताल के बयान में कहा गया है, 4 जून, 2021 तक भारत में कोविड-19 के 2.87 करोड़ मामले दर्ज किए गए थे। यह माना जा सकता है कि अस्पताल में भर्ती होने की दर 6 प्रतिशत रही है लगभग 17 लाख को प्रवेश की आवश्यकता होगी।

बयान में कहा गया है, यदि इनमें से 40 प्रतिशत में लॉन्ग-कोविड सिंड्रोम विकसित होता है, तो लगभग 7 लाख मामलों में डिस्चार्ज होने के बाद मदद की आवश्यकता हो सकती है।

डॉक्टरों ने नोट किया कि लंबी अवधि के कोविड की वास्तविक संख्या बहुत अधिक हो सकती है, क्योंकि यह स्थिति हल्के कोविड-19 रोगियों में भी हो सकती है, जिन्हें कभी अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया था।

अन्य ख़बरें

चीनी शहर नानजिंग के लोगो में पाए गए डेल्टा वेरिएंट

Newsdesk

भारत में कोविड के 29,689 मामले, 132 दिनों में सबसे कम

Newsdesk

जम्मू-कश्मीर में कोरोना के 102 नए मामले सामने आए, 189 मरीज ठीक हुए

Newsdesk

Leave a Reply