Seetimes
Town

यूपी की महिला शिक्षकों ने मांगी 3 दिन की ‘पीरियड लीव’

प्रयागराज, 20 जुलाई (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश की महिला शिक्षक अब उन्हें मिलने वाली अन्य छुट्टियों के अलावा हर महीने तीन दिन की ‘पीरियड लीव’ या ‘मेनस्ट्रुअल लीव’ की मांग कर रही हैं। उन्होंने बिहार जैसे राज्यों में अपने समकक्षों को उपलब्ध सुविधा का हवाला दिया है।

उत्तर प्रदेश महिला शिक्षक संघ ने अपनी मांग यूपी महिला आयोग की सदस्य अनामिका चौधरी को सौंप दी है और अब उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से संपर्क करने की योजना है।

अनामिका चौधरी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मांग से अवगत कराने का वादा किया है।

महिला शिक्षकों ने इस तथ्य को रेखांकित किया कि मासिक धर्म वाली महिलाओं को दर्द और रक्तस्राव का अनुभव होता है, जो उनकी मानसिक और शारीरिक स्थिति दोनों को प्रभावित करता है।

संघ की प्रयागराज इकाई की वरिष्ठ उपाध्यक्ष पूनम गुप्ता ने कहा कि बिहार सरकार पिछले 30 साल से महिला कर्मचारियों को यह छुट्टी दे रही है।

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि यूपी सरकार महिला शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए प्रति माह तीन दिन का अवधि अवकाश भी बढ़ाए।

“सभी इकाइयां अपने-अपने जिलों में निर्वाचित विधायकों और मंत्रियों को समान ज्ञापन सौंप रही हैं। आजमगढ़, बरेली या लखनऊ, हर विधायक और मंत्री को हमारी मांगों से अवगत कराने की योजना है। प्रयागराज में, हम डिप्टी को एक ज्ञापन सौंपने की योजना बना रहे हैं।”

उल्लेखनीय है कि भारतीय खाद्य वितरण सेवा जोमैटो ने महिला कर्मचारियों को प्रति वर्ष 10 दिनों तक पीरियड लीव देने का फैसला किया है।

पूनम गुप्ता ने कहा, “कई निजी कंपनियां भारत में भी महिला कर्मचारियों को ‘पीरियड लीव’ लेने का विकल्प देती हैं। यह ज्यादातर जगहों पर एक वैकल्पिक छुट्टी है और शायद ही कोई इसका दुरुपयोग करता है। आज, महिला शिक्षकों को सबसे ज्यादा काम पर आना पड़ता है। छुट्टी उनके दर्द और परेशानी को दूर नहीं कर सकती है, लेकिन यह उन्हें उन दिनों में छुट्टी दे सकती है जब वे सबसे ज्यादा असहज होती हैं।”

अन्य ख़बरें

मप्र में घर बैठे बनेंगे वाहनों के लर्निंग लायसेंस

Newsdesk

मप्र के मंत्री का ऐलान: बच्चे नहीं लेंगे आरक्षण का लाभ

Newsdesk

भोपाल में 16 करोड़ की जमीन अतिक्रमण मुक्त कराई गई

Newsdesk

Leave a Reply