Seetimes
Education

मप्र में 12वीं का परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत

भोपाल 29 जुलाई (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश में कोरोना महामारी के कारण हायर सेकेंडरी का परीक्षा परिणाम बेस्ट ऑफ फाइव मूल्यांकन पद्धति के आधार पर तैयार कर घोषित कर दिया गया है। परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत रहा है। स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) और सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार ने माध्यमिक शिक्षा मंडल में कक्षा 12वीं का सिंगल क्लिक के माध्यम से परीक्षा परिणाम जारी किया। परमार ने कहा कि बेस्ट ऑफ फाइव मूल्यांकन पद्धति के आधार पर परीक्षा परिणाम तैयार किया गया है। सभी विद्यार्थियों को उत्तीर्ण किया गया है। परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत रहा है, जिसमे 52.28 प्रतिशत परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी में, 40.28 प्रतिशत परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी में और 7.43 प्रतिशत परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं।

माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा छह लाख 56 हजार 148 नियमित परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम घोषित किये गए हैं। इनमें तीन लाख 43 हजार 64 (52.28 प्रतिशत) परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी में, दो लाख 64 हजार 295 (40.28 प्रतिशत) परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी में और 48 हजार 787 (7.43 प्रतिशत) परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। इस प्रकार इस वर्श का परीक्षाफल शत-प्रतिशत रहा है।

स्वाध्यायी परीक्षार्थियों का भी परीक्षा परिणाम हाईस्कूल परीक्षा के आधार पर तैयार किया गया है। कुल 71 हजार 996 स्वाध्यायी परीक्षार्थियों में 19 हजार 925 (27.67 प्रतिशत) परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी में, 33 हजार 944 (47.14 प्रतिशत) परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी में और 18 हजार 126 (25.17 प्रतिशत) परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं।

मंडल ने परीक्षा परिणाम के संबंध में छात्रों की शिकायत निवारण के लिए विशेष व्यवस्था की गयी है। यदि किसी छात्र को अंकों के संबंध में कोई शिकायत है तो वह एमपी ऑनलाइन पोर्टल पर बनाए गए विशेश साफ्टवेयर के माध्यम से अपना अनुक्रमांक एवं आवेदन क्रमांक अंकित कर हाईस्कूल के विशयवार अंक एवं इसके आधार पर मैप किये गये हायर सैकेण्डरी परीक्षा के विशयों के अंक के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है।

अन्य ख़बरें

तिब्बती स्कूलों को एनजीओ को न सौंपें : हिमाचल मंत्री

Newsdesk

चीन में डेल्टा वैरिएंट के मामले बढ़ने के बाद स्कूलों को किया गया बंद

Newsdesk

एप्पल से बायजू तक, भारत में कैसे महामारी के बीच तकनीक के जरिये शिक्षकों को बनाया सशक्त

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy