Seetimes
World

अमेरिका ने अफगान शहरों में तालिबान के हिंसक हालिया हमलों की निंदा की

नई दिल्ली, 8 अगस्त (आईएएनएस)| अफगानिस्तान में अमेरिकी दूतावास ने तालिबान द्वारा शहरों पर कब्जा किए जाने की निंदा की है और कहा है कि यह अस्वीकार्य है।

अमेरिकी दूतावास ने शनिवार को एक बयान में कहा, हम अफगान शहरों के खिलाफ तालिबान के हिंसक नए हमले की निंदा करते हैं। इसमें अफगानिस्तान के निमरोज प्रांत की राजधानी जरांज पर अवैध कब्जा, शुक्रवार और शनिवार को जॉज्जान प्रांत की राजधानी शेबरघन पर हमला और हेलमंद और प्रांतीय राजधानियों में लश्कर गाह पर कब्जा करने के लगातार प्रयास शामिल हैं।

अमेरिकी दूतावास ने कहा कि तालिबान की ये हरकतें अस्वीकार्य हैं। बयान में कहा गया है, जबरन अपना शासन लागू करने के लिए तालिबान की ये कार्रवाई अस्वीकार्य है और दोहा शांति प्रक्रिया में एक बातचीत के समझौते का समर्थन करने के उसके दावे का खंडन करती है। वे नागरिकों के कल्याण और अधिकारों की बेवजह अवहेलना करते हैं और इस देश के मानवीय संकट को और खराब कर देंगे।

अमेरिकी दूतावास ने कहा, हम तालिबान से एक स्थायी और व्यापक युद्धविराम के लिए सहमत होने और अफगान लोगों की पीड़ा को समाप्त करने के लिए पूरी तरह से शांति वार्ता में शामिल होने का आह्वान करते हैं और एक समावेशी राजनीतिक समाधान का मार्ग प्रशस्त के लिए कहते हैं, जो सभी अफगानों को लाभान्वित करता है और यह सुनिश्चित करता है कि अफगानिस्तान फिर से आतंकवादियों के लिए एक सुरक्षित पनाहगाह के रूप में काम न करे।

अमेरिकी दूतावास ने अमेरिकी नागरिकों को भी उपलब्ध वाणिज्यिक उड़ान विकल्पों का उपयोग करके तुरंत अफगानिस्तान छोड़ने के लिए कहा है। सुरक्षा की स्थिति और कर्मचारियों की कमी को देखते हुए, अफगानिस्तान में अमेरिकी नागरिकों की सहायता करने की दूतावास की क्षमता काबुल के भीतर भी बेहद सीमित है।

अमेरिकी दूतावास उन अमेरिकी नागरिकों के लिए एक प्रत्यावर्तन ऋण प्रदान कर सकता है, जो इस समय संयुक्त राज्य के लिए एक वाणिज्यिक टिकट खरीदने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं।

इस संबंध में जारी बयान में दूतावास के कर्मचारियों की कमी को बताया गया है, जिससे अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में भी मदद नहीं की जा सकती है।

यह बयान काबुल में ब्रिटिश दूतावास द्वारा इसी तरह का अलर्ट जारी करने के एक दिन बाद ही सामने आया है, जिसमें अपने नागरिकों को वाणिज्यिक साधनों का उपयोग करके तुरंत अफगानिस्तान छोड़ने के लिए कहा गया था।

काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों को इस साल 27 अप्रैल को विदेश विभाग द्वारा दिए गए अलर्ट की याद दिलाई। अलर्ट के आधार पर, काबुल दूतावास में अमेरिकी कर्मचारियों को अपराधों, अपहरण, कोविड-19, सशस्त्र संघर्ष, आतंकवाद और नागरिक अशांति के कारण अफगानिस्तान छोड़ने के लिए कहा गया था।

इस बयान में कहा गया था कि अफगानिस्तान में अमेरिकी नागरिकों को वाणिज्यिक उड़ानों का उपयोग करके जल्द से जल्द अफगानिस्तान छोड़ने और अमेरिकी सरकार की उड़ानों के भरोसे नहीं रहने की सलाह दी जाती है।

अन्य ख़बरें

कोविड के बढ़ते मामलों के बीच अमेरिका में बूस्टर शॉट पर हुई बहस

Newsdesk

पाक तालिबान ने कुरैशी के ‘माफी प्रस्ताव’ को खारिज किया, सेना से माफी मांगने को कहा

Newsdesk

वैश्विक कोविड-19 मामले 22.75 करोड़ से ज्यादा हुए

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy