Seetimes
World

अपने दूतावास के कर्मचारियों की सहायता के लिए काबुल पहुंचे अमेरिकी सैनिक

काबुल, 14 अगस्त (आईएएनएस)| अमेरिकी सैनिकों ने युद्धग्रस्त देश से अमेरिकी दूतावास कर्मियों को निकालने में सहायता के लिए काबुल पहुंचना शुरू कर दिया है, जहां तालिबान सुरक्षा बलों के खिलाफ अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है। टोलो न्यूज की रिपोर्ट में अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि सैनिकों का आगमन रविवार तक जारी रहेगा।

गुरुवार को, अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने घोषणा की थी कि अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति लगातार बिगड़ने के कारण अमेरिकी दूतावास के कर्मचारियों का समर्थन करने के लिए देश काबुल हवाई अड्डे पर हजारों सैनिकों को तैनात करेगा।

प्राइस ने कहा कि दूतावास खुला रहेगा और अमेरिका की योजना देश में राजनयिक कार्य जारी रखने की है।

साथ ही गुरुवार को पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने संवाददाताओं से कहा कि 24 से 48 घंटों के भीतर काबुल हवाई अड्डे पर तीन पैदल सेना बटालियन, लगभग 3,000 सैनिकों को तैनात किया जाएगा।

इसके अलावा, विशेष अप्रवासी वीजा (एसआईवी) के लिए अफगान आवेदकों के प्रसंस्करण की सुविधा के लिए संयुक्त अमेरिकी सेना और वायु सेना सहायता टीम के लगभग 1,000 कर्मियों को कतर भेजा जाएगा।

अतिरिक्त बलों की आवश्यकता होने पर एक पैदल सेना ब्रिगेड का लड़ाकू दल अगले सप्ताह कुवैत पहुंचेगा।

शनिवार का घटनाक्रम ऐसे समय में सामने आया है, जब तालिबान आतंकवादियों ने देश भर में तेजी से विभिन्न प्रांतों और शहरों को अपने कब्जे में ले लिया है और कई जगहों से अफगान बलों को पीछे हटने पर मजबूर होना पड़ा है।

इससे पहले दिन में तालिबान ने दो और प्रांतीय राजधानियों तिरिन कोट (उरुजगन) और फिरोज कोआ (घोर) पर कब्जा करने का दावा किया है।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने यह भी कहा कि लोगर प्रांत की राजधानी पुल-ए-आलम के अधिकांश हिस्से तालिबान के हाथ में आ गए हैं। मुजाहिद ने यह भी कहा कि शहर में एक खुफिया एजेंसी के कार्यालय और दो सैन्य ठिकानों पर संघर्ष जारी है।

राष्ट्रीय राजधानी काबुल से लगभग 60 किलोमीटर दक्षिण में पुल-ए-आलम में शुक्रवार तड़के भारी झड़पें हुई। यहां तालिबान ने शहर पर धावा बोल दिया था।

पिछले एक हफ्ते में, विद्रोहियों ने हेरात, कंधार और गजनी शहरों सहित 10 से अधिक प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा कर लिया है।

1 मई से शुरू हो रहे अमेरिकी नेतृत्व वाले सैनिकों के दल की वापसी के बाद से युद्धग्रस्त देश में हालात बिगड़ते जा रहे हैं।

हाल के हफ्तों में कई अफगान शहरों और देश के 34 प्रांतों में से लगभग आधे प्रांतों में अफगान बलों और तालिबान आतंकवादियों के बीच तीव्र लड़ाई देखी गई है।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमेरिकी सेना को 31 अगस्त तक अफगानिस्तान में अपने मिशन को समाप्त करने का आदेश दिया है।

इस महीने की शुरुआत में, अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अपने देश में बिगड़ती हिंसा के लिए अमेरिकी नेतृत्व वाले सैनिकों की तेजी से वापसी को जिम्मेदार ठहराया था।

अन्य ख़बरें

कोविड के बढ़ते मामलों के बीच अमेरिका में बूस्टर शॉट पर हुई बहस

Newsdesk

पाक तालिबान ने कुरैशी के ‘माफी प्रस्ताव’ को खारिज किया, सेना से माफी मांगने को कहा

Newsdesk

वैश्विक कोविड-19 मामले 22.75 करोड़ से ज्यादा हुए

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy