Seetimes
National

गृहमंत्री अमित शाह और शिवराज सिंह समेत तमाम दिग्गजों ने कल्याण सिंह को दी श्रद्घाजंलि

अलीगढ़, 23 अगस्त (आईएएनएस)| भारतीय राजनीति के पुरोधा कहे जाने वाले यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की पाíथव देह को उनकी कर्मभूमि अलीगढ़ से जन्मभूमि उनके पैतृक गांव अतरौली लाया गया है। गृह मंत्री अमित शाह के साथ ही मय प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिह चौहान उनके अंतिम दर्शन के लिए अतरौली पहुंचे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूद्गी में अमित शाह व शिवराज सिह चौहान समेत तामम दिग्गजों ने स्वर्गीय कल्याण सिह को वहां पर श्रद्घांजलि दी है। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, “आज मैं यहां कल्याण सिह जी के अंतिम दर्शन के लिए आया हूं। भाजपा ने दिग्गज और हमेषा संघर्षरत रहने वाला नेता खोया है। उनका जाना भारतीय जनता पार्टी के लिए बहुत बड़ी क्षति है। देशभर में दबे, कुचले, पिछड़ों ने अपना एक अच्छा नेता गंवाया है। राम मंदिर आंदोलन में कल्याण सिह जी बड़े नेता रहे। आंदोलन के लिए सत्ता त्याग करने के लिए तनिक भी नहीं सोचा। जब राम मंदिर का शिलान्यास हुआ उसी दिन मेरी बाबू जी से बात हुई थी। बड़े हर्ष और संतोष के साथ बताते थे कि मेरा सपना पूरा हुआ। उनका पूरा जीवन उत्तर प्रदेश के गरीब, पिछड़ों के लिए समíपत रहा। यूपी को देश का सबसे अच्छा प्रदेश बनाने के लिए वह सदैव कार्यरत रहे। बाबू जी लंबे समय से सक्रिय राजनीति में न रहते हुए भी अपनी पूरी भूमिका रखते थे। युवा भी बाबू को आदर्श मानते है। वह हमेशा भाजपा के प्रेणा श्रोत रहेंगे।”

पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्घांजलि देने पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह को देख कल्याण सिह के बेटे फफक कर रो पड़े। इस दौरान शाह ने उन्हें गले से लगाकर सांत्वना दी।

कल्याण सिह के अंतिम दर्शन के लिए राज्यपाल आनंदीबेन पटेल अतरौली पहुंची, 20 मिनट रुकने के बाद वापस लौटीं।

पूर्व राज्यपाल के अंतिम सफर में एक हजार से ज्यादा गाड़ियों का काफिला शामिल हुआ। अतरौली में करीब दो घंटे तक उनका पाíथव शरीर अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। इसके बाद उनका पाíथव शरीर नरौरा के गंगा घाट पर पहुंचेगा, जहां शाम को उनका अंतिम संस्कार होगा। पूर्व मुख्ययमंत्री को आखिरी बार देखने और श्रद्घांजलि देने के लिए अलीगढ़ की सड़कों पर लोगों की भीड़ जुटी रही। अतरौली के गेस्ट हाउस में भी लगातार लोग श्रद्घांजलि दे रहे हैं। इससे पहले अलीगढ़ में सड़क के दोनों तरफ खड़े होकर अपने बेहद लोकप्रिय नेता का अंतिम दर्शन कर रहे थे। बाबू जी की याद में हर आंख नम हो गयी थीं।

अन्य ख़बरें

दिल्ली-एनसीआर में आंधी-तूफान के बाद बारिश, ओलावृष्टि

Newsdesk

कांग्रेस ने असम के मुख्यमंत्री पर चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगाया

Newsdesk

तेजप्रताप ने लालू प्रसाद को उनके सरकारी आवास पर आने के लिए किया ‘मजबूर’

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy