Seetimes
Crime National

सामूहिक दुष्कर्म मामला : दुष्कर्मियों ने बनाया वीडियो, मांगे पैसे

मैसुरु (कर्नाटक), 26 अगस्त (आईएएनएस)| मैसुरु सामूहिक दुष्कर्म मामले में और भी भयावह जानकारियां सामने आई हैं। बदमाशों ने कॉलेज गर्ल के यौन उत्पीड़न का वीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल नहीं करने के लिए तीन लाख रुपये की मांग की। पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना मंगलवार देर शाम की है। अपने पुरुष मित्र के साथ सुनसान जगह पर आई पीड़िता को नशे की हालत में छह बदमाशों के गिरोह ने निशाना बनाया था। उन्होंने उसके पुरुष मित्र पर एक छोटे से पत्थर से हमला किया था।

सूत्रों का कहना है कि बदमाशों ने बच्ची के कपड़े उतारे और करीब दो घंटे तक उसके साथ दुष्कर्म किया। चूंकि, जगह अलग-थलग है और लोगों को तेंदुओं की आवाजाही का डर है, इसलिए बदमाशों को यकीन था कि उनकी हरकत पर किसी का ध्यान नहीं जाएगा और कोई भी लड़की को बचाने के लिए नहीं आएगा।

बदमाशों ने पीड़िता के दोस्त को बार-बार छोटे-छोटे बोल्डर से मारा था, थप्पड़ मारकर मारपीट की थी। दोनों ने गुहार लगाई कि वे घटना के बारे में किसी को नहीं बताएंगे। उसके बाद भी गिरोह ने अपना हमला जारी रखा और लगभग अचेत अवस्था में उन्हें सुनसान जगह पर छोड़ दिया।

किसी तरह पीड़िता और उसका दोस्त एक अस्पताल पहुंचे और अधिकारियों को बताया कि उन पर हमला किया गया है। उन्होंने यह खुलासा नहीं किया कि वीडियो के जारी होने के डर से वास्तव में क्या हुआ था। लेकिन बाद में पीड़िता के पुरुष मित्र ने पुलिस को दुष्कर्म के बारे में बताया।

पुलिस ने इलाके से बीयर की खाली बोतलें और डिब्बे बरामद किए हैं। पुलिस सूत्रों ने कहा कि वे टावर लोकेशन से कॉल ट्रैक करने पर काम कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें शक है कि बदमाश वहां ज्यादा समय बिता रहे हैं।

इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग ने सामूहिक दुष्कर्म मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया है। अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा है कि आयोग गुरुवार को पीड़िता से मुलाकात करेगा।

विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि वह राज्य में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में विफल रही है। उन्होंने कहा कि लूट, हमले की घटनाएं बढ़ रही हैं।

पुलिस पीड़िता के दोस्त से जानकारी जुटा रही है, लेकिन अभी तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। राज्य सरकार ने घटना की जांच के लिए एडीजीपी प्रताप रेड्डी को नियुक्त किया है।

सीसीटीवी नहीं होने के कारण पुलिस सुराग की तलाश कर रही है। लड़की और उसके दोस्त से मिली शुरुआती जानकारी के अनुसार, दुष्कर्मियों ने कन्नड़ में बात की थी। इससे पता चलता है कि वे स्थानीय लोग हैं।

पुलिस पीड़िता के विस्तृत बयान का इंतजार कर रही है और दी गई जानकारी के आधार पर बदमाशों का स्केच तैयार कर रही है।

अन्य ख़बरें

लखीमपुर हिंसा : किसान संगठनों का सोमवार को 6 घंटे का ‘रेल रोको’ आंदोलन का आह्वान

Newsdesk

गुरुग्राम फ्लाईओवर से 2 बाइक सवार गिरे, एक की मौत

Newsdesk

बांग्लादेश हिंसा : बंगाल के सभी सीमावर्ती जिलों में इंटेल अलर्ट

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy