30.3 C
Jabalpur
June 29, 2022
Seetimes
National

कर्नाटक में चड्डी अभियान तेज, पाठ्यपुस्तक को लेकर भाजपा और कांग्रेस में तकरार जारी

बेंगलुरु, 7 जून (आईएएनएस)| कर्नाटक में शुरू किए गए ‘चड्डी अभियान’ में एक नया मोड़ आ गया है। सत्तारूढ़ भाजपा ने मंगलवार को ‘चड्डी’ इकट्ठा करने और इसे विपक्ष के नेता सिद्धारमैया के आवास पर भेजने का एक नया अभियान शुरू किया। विवाद तब शुरू हुआ, पाठ्यपुस्तक में संशोधन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस की छात्र शाखा एनएसयूआई के 15 कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। मामला दर्ज किए जाने के खिलाफ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आरएसएस कार्यकर्ताओं द्वारा पहने जा रहे खाकी निकर को जलाने का आह्वान किया। उनके आह्वान पर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश के आवास के सामने खाकी निकर जलाकर पाठ्यक्रम में संशोधन का विरोध किया। खाकी निकर जलाए जाने के खिलाफ आरएसएस कार्यकर्ताओं ने ‘चड्डी अभियान’ शुरू किया।

भाजपा के एससी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष और एमएलसी चलवाड़ी नारायणस्वामी ने घोषणा की कि वह व्यक्तिगत रूप से पार्टी के पदाधिकारियों के साथ सिद्धारमैया के आवास पर जाएंगे और उन्हें चड्डी सौंपेंगे।

मैसूर और चिक्कमगलूर जिलों के भाजपा और आरएसएस कार्यकर्ता कांग्रेस कार्यालय और सिद्धारमैया को चड्डी भेजना जारी रखे हुए हैं।

इस बीच, सत्तारूढ़ भाजपा को झटका देते हुए मैसूर से उसके विधायक हर्षवर्धन ने स्कूल की पाठ्यपुस्तक में डॉ. बी.आर. अंबेडकर के लिए लिखे ‘संविधान शिल्पी’ शब्द को हटाने के लिए अपनी ही पार्टी की आलोचना की।

उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि पाठ्यपुस्तक से उस शब्द को हटाने की क्या जरूरत थी। हम ऐसी चीजों को बर्दाश्त नहीं करते। इस संबंध में समझौता करने का कोई सवाल ही नहीं है। इस शब्द को हटाने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए।”

विवाद में शामिल होते हुए पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा कि उनका मानना है कि सिद्धारमैया सम्मानपूर्वक व्यवहार करेंगे। अगर वह आरएसएस और ‘चड्डी’ के बारे में बात करना जारी रखते हैं तो वह अपना सम्मान खो देंगे।

उन्होंने कहा, “सिद्धारमैया के बयान से उनकी गरिमा नहीं बढ़ेगी। पाठ्यपुस्तक संशोधन विवाद के बारे में बात करने की कोई जरूरत ही नहीं है, क्योंकि मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि वह पाठ्यक्रम में सुधार करेंगे। इस मुद्दे पर बड़ा विवाद पैदा करने की कोई जरूरत नहीं है।”

इस बीच, शिक्षा मंत्री नागेश ने मंगलवार को कहा कि मंत्रालय रोहित चक्रतीर्थ की अध्यक्षता वाली पाठ्यपुस्तक संशोधन समिति द्वारा द्वितीय पीयूसी इतिहास की पाठ्यपुस्तक में किए गए संशोधन को स्वीकार नहीं करेगा। हालांकि, विपक्षी दल और कई प्रगतिशील संगठन टस से मस नहीं हो रहे हैं।

भाजपा और कांग्रेस के बीच ‘चड्डी’ लड़ाई पर टिप्पणी करते हुए जद (एस) नेता और पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने कहा कि चड्डी पर विरोध करने से कुछ नहीं होगा।

उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा, “लड़ाई भाजपा की नीतियों और कार्रवाइयों पर दर्ज होनी है। चड्डी में कुछ भी नहीं है। इस ‘चड्डी’ आंदोलन के कारण दर्जी का कारोबार अच्छा लगता है।”

उन्होंने कहा कि बार-बार ‘चड्डी’ के बारे में बात करके भाजपा और कांग्रेस दोनों ही उन किसानों का अपमान कर रहे हैं जो निकर पहने हुए अपने खेतों में काम करते हैं।

अन्य ख़बरें

जुबैर के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को फिर से हालिस करने के लिए बेंगलुरू ले जाया जाएगा

Newsdesk

मुख्यमंत्री का सभी विभागों को निर्देश, 30 तक पूरा करें सौ दिन का लक्ष्य

Newsdesk

गुजरात: पिता ने कुल्हाड़ी से काटकर बेटे की हत्या की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy