26.9 C
Jabalpur
June 26, 2022
Seetimes
World

असहिष्णुता का मुकाबला करने को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का वैध प्रयोग जरूरी : भारत

संयुक्त राष्ट्र, 22 जून (आईएएनएस)| भारत ने घोषणा की है कि असहिष्णुता का मुकाबला करने के लिए ‘राय और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का वैध प्रयोग’ जरूरी है।

भारत के उपस्थायी प्रतिनिधि आर. रवींद्र ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद में कहा, “संवैधानिक ढांचे के तहत राय और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का वैध अभ्यास लोकतंत्र को मजबूत करने, बहुलवाद को बढ़ावा देने और असहिष्णुता से निपटने में महत्वपूर्ण और सकारात्मक भूमिका निभाता है।”

उन्होंने कहा कि भारत हमेशा ‘लोकतंत्र और बहुलवाद के सिद्धांतों पर आधारित समाज’ के लिए प्रतिबद्ध है और उनका मानना है कि यह ‘विभिन्न समुदायों के एक साथ रहने के लिए वातावरण’ बनाता है।

उन्होंने कहा, “आतंकवाद सभी धर्मो और संस्कृतियों का विरोधी है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को कट्टरपंथ और आतंकवाद दोनों का मुकाबला करना चाहिए।”

साथ ही उन्होंने कहा, “संयुक्त राष्ट्र की जिम्मेदारी है कि वह यह सुनिश्चित करे कि अभद्र भाषा और भेदभाव का मुकाबला कुछ चुनिंदा धर्मो और समुदायों तक ही सीमित नहीं होना चाहिए, बल्कि सभी प्रभावित लोगों को शामिल करना चाहिए।”

यह स्थायी प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति द्वारा सोमवार को महासभा में दिए गए बयान का दोहराव है, जब उन्होंने कथा था कि गैर-अब्राहम धर्मो के संदर्भ में जो बात कही, उसके दोहरे मानदंड थे।

उन्होंने आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने जो कहा वह बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और सिख धर्म सहित गैर-अब्राहम धर्मो के खिलाफ घृणा और भेदभाव में वृद्धि की हो रही अनदेखी के बारे में था।

सुरक्षा परिषद का मंगलवार का सत्र यूक्रेन के संबंध में ‘अत्याचार अपराधों के लिए हिंसा को बढ़ावा देना’ पर था और यह बैठक यूक्रेन और रूस और उसके सहयोगी चीन के समर्थकों के बीच वाकयुद्ध का स्थान बन गई, जिसमें भारत एक बाईस्टैंडर था।

रवींद्र का बयान यूक्रेन पर रूस के आक्रमण पर भारत की तटस्थता को दर्शाता है। इसने न तो मास्को की आलोचना की है, जैसा कि परिषद के अधिकांश देशों ने किया, और न ही चीन की तरह इसका बचाव किया है, बल्कि सामान्य शब्दों में हिंसा के विभिन्न रूपों और वहां संघर्ष के प्रभाव के बारे में बात की।

उन्होंने कहा, “हिंसा के लिए उकसाना शांति, सहिष्णुता और सद्भाव का विरोध है।”

उन्होंने कहा, “भारत यूक्रेन में बिगड़ती स्थिति पर गहरी चिंता में बना हुआ है और हिंसा को तत्काल समाप्त करने और शत्रुता को समाप्त करने के अपने आह्वान को दोहराता है।”

अल्बानिया के स्थायी प्रतिनिधि और परिषद के अध्यक्ष फेरिट होक्सा ने कहा, “जो अमानवीय शब्दों से शुरू होता है वह रक्तपात में समाप्त होता है।”

उन्होंने कहा कि उदाहरण के तौर पर, यूक्रेन पर आक्रमण शुरू करने से पहले, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने उस देश को ‘बोल्शेविकों की कृत्रिम रचना’ कहा था, जिसे ‘डी-नाजीफाइड’ होना चाहिए, जबकि रूसी मीडिया ने झूठी जानकारी फैलाई कि कीव ‘नरसंहार’ कर रहा था।

रूस के स्थायी प्रतिनिधि वसीली नेबेंजिया ने यूक्रेन पर अपनी प्रचार मशीन के माध्यम से ‘नाजीवाद’ और राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया और बार-बार आरोप लगाया कि रूसी-भाषियों को ‘द्वितीय श्रेणी के नागरिक’ बनाया गया था।

केन्या के संयुक्त राष्ट्र मिशन में एक मंत्री जेने टोरोइच ने कहा कि मानवाधिकारों के उल्लंघन और युद्ध अपराधों के आरोपों को हथियार बनाया गया है और कहा कि संघर्ष और उनके सहयोगियों में संघर्ष यूक्रेनियन या अन्य के बारे में अपमानजनक विचार नहीं फैलाना चाहिए।

यूक्रेन संघर्ष के वैश्विक नतीजों की ओर मुड़ते हुए रवींद्र ने कहा कि इसका विशेष रूप से विकासशील देशों पर असमान प्रभाव पड़ा।

भारत द्वारा गेहूं के वाणिज्यिक निर्यात पर प्रतिबंध हटाने के आह्वान के बीच उन्होंने कहा, “खुले बाजार को असमानता बनाए रखने और भेदभाव को बढ़ावा देने के लिए को तर्क नहीं गढ़ना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “भारत खाद्य सुरक्षा पर संघर्ष के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए रचनात्मक रूप से काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।” उन्होंने कहा कि वह यूक्रेन संघर्ष से प्रभावित पड़ोसियों को खाद्यान्न की आपूर्ति कर रहा था।

अन्य ख़बरें

अफगानिस्तान से अल-कायदा की मिली धमकियों से चिंतित रूस व मध्य एशियाई रक्षा मंत्री मॉस्को में उलझे

Newsdesk

अल्जाइमर रोग से जुड़ा कोविड, पार्किं संस का खतरा

Newsdesk

क्रैश करने जा रहा है बिटकॉइन, चीन ने निवेशकों को चेताया

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy