30.1 C
Jabalpur
June 2, 2023
सी टाइम्स
राष्ट्रीय

ससाराम हिंसा पर भाजपा के पूर्व विधायक की गिरफ्तारी पर नीतीश ने कहा, किसी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा

पटना, 29 अप्रैल | बिहार के रोहतास जिले में रामनवमी पर्व के अवसर पर हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने आरोपी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व विधायक जवाहर प्रसाद को शुक्रवार की रात गिरफ्तार किया है। पूर्व विधायक पर हिंसा भड़काने का आरोप है। इस बीच, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि घटना में कोई भी अगर दोषी पाया जायेगा तो चाहे वह किसी दल का हो, उस पर कार्रवाई होगी। किसी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

रोहतास पुलिस के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि सासाराम शहर में सांप्रदायिक उपद्रव के मामले में पुलिस ने जवाहर प्रसाद और मोहम्मद शाहनवाज आलम उर्फ लखानी को शुक्रवार की रात गिरफ्तार किया गया है।

पटना में एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे नीतीश कुमार से पत्रकारों ने जब सासाराम में भाजपा नेता की गिरफ्तारी को लेकर सवाल किया तब उन्होंने कहा कि अगर किसी पर कोई आरोप लगता है तो पुलिस उसकी जांच करती है। जांच में जो दोषी पाया जाता है, उस पर कार्रवाई होती है।

उन्होंने कहा कि आज तक हमने इस सब चीजों में कभी इंटरफेयर नहीं किया है। बिहार में जहां कहीं भी घटना होती है तो उसकी बारीकी से जांच होती है। जिन दो जगहों पर घटनाएं हुई है, वहां पर कड़ी कार्रवाई की गई है। घटनाओं को लेकर पुलिस प्रशासन पूरे तौर पर सतर्क रहता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि घटना में कोई भी अगर दोषी पाया जायेगा तो चाहे वह किसी दल का हो, उस पर कार्रवाई होगी। किसी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता क्या बोलते हैं उस पर मैं ध्यान नहीं देता। उससे हमें कोई मतलब नहीं है।

इधर, पूर्व विधायक के समर्थकों का आरोप है कि सरकार के इशारे पर पुलिस प्रशासन बेवजह भाजपा के लोगों को परेशान कर रही है। समर्थकों ने पूर्व विधायक पर लगे आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि इस हिंसा से पूर्व विधायक को कोई लेना-देना नहीं है।

पुलिस अधिकारी ने आगे बताया कि इस मामले में अदालत से वारंट निर्गत किया गया था। अब तक इस मामले में 63 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि दो लोगों ने न्यायालय में आत्मसमर्पण किया है। शेष 38 आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि रामनवमी पर्व के मौके पर राज्य के कई जिलों में हिंसा भडक गई थी। दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए थे। इस दौरान सासाराम में भी हिंसा भड़क गई थी। प्रशासन द्वारा पूरे क्षेत्र में धरा 144 लगा दिया गया था तथा कई दिनों तक इंटरनेट सेवा को बंद रखा गया था।

अन्य ख़बरें

बिहार के भोजपुर में रहस्यमयी हालत में मिला मजदूर का शव, परिवार का हत्या का आरोप

Newsdesk

बिहार : पूर्वी चंपारण में मिड डे मील खाने से 150 छात्र बीमार पड़े

Newsdesk

मणिपुर में हिंसा के बीच नए पुलिस प्रमुख की नियुक्ति

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy