28.5 C
Jabalpur
September 22, 2023
सी टाइम्स
राष्ट्रीय हेडलाइंस

टीएमसी से रिश्ते पर बंगाल कांग्रेस में घमासान!

कोलकाता, 21 अगस्त । कांग्रेस की पश्चिम बंगाल इकाई में विपक्षी गठबंधन इंडिया पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के साथ पार्टी नेताओं के समीकरण के

खिलाफ नाराजगी सामने आई है।

कांग्रेस नेता और कलकत्ता उच्च न्यायालय के वकील कौस्तव बागची द्वारा रविवार को राज्य कांग्रेस अध्यक्ष और पार्टी के वरिष्‍ठ लोकसभा सदस्य अधीर रंजन चौधरी पर तृणमूल कांग्रेस के बारे में नरम रुख अपनाने का आरोप लगाए जाने के एक दिन बाद, चौधरी ने सोमवार को कहा कि ‘ जो लोग ऐसी बातें कर रहे हैं, वे बस बीजेपी के जाल में फंस रहे हैं।’

चौधरी ने कहा, “तृणमूल कांग्रेस के बारे में नरम होने का कोई सवाल ही नहीं है। पश्चिम बंगाल में अल्पसंख्यक वोट बैंक के पुनर्जीवित होने के संकेत स्पष्ट होने के साथ ही कांग्रेस-वाम मोर्चा गठबंधन पश्चिम बंगाल में मजबूत होने लगा है। लेकिन बीजेपी नहीं चाहती कि राज्य में इस तीसरी ताकत का दोबारा उभार हो। वे पश्चिम बंगाल में कांग्रेस-तृणमूल कांग्रेस की दोस्ती की कहानी गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। चौधरी ने कहा, मैं कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं से अनुरोध करता हूं कि वे भाजपा की इस चाल में न फंसें।

इस बीच, पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कांग्रेस और सीपीआई (एम) उन कार्यकर्ताओं का आह्वान किया  है, जो इंडिया गठबंधन को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ अपने केंद्रीय नेताओं की निकटता से व्यथित हैं, ताकि वे एक अलग गठबंधन तृणमूल कांग्रेस विरोधी मंच बना सकें।

अधिकारी ने कहा, ”कौस्तव कांग्रेस में रहकर कुछ नहीं कर पाएंगे. उन्हें तुरंत भाजपा में शामिल होना चाहिए या तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ एक अलग मंच बनाना चाहिए।”

पिछले हफ्ते, बागची ने राज्य कांग्रेस अध्यक्ष और पार्टी के लोकसभा सदस्य अधीर रंजन चौधरी उस टिप्पणी के लिए उनका नाम लिए, उनका मजाक उड़ाया था, जिसमें चौधरी ने कहा, ”अगर भारत एक ‘नदी’ की तरह है, तो पश्चिम बंगाल एक ‘तालाब’ की तरह है। वर्तमान स्थिति में हम तालाब के बजाय उस नदी पर अधिक जोर देने के लिए मजबूर हैं।”

बागची ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की और कहा कि वह नदी और तालाब की अवधारणा को नहीं समझते हैं और वह केवल इतना समझते हैं कि राज्य कांग्रेस को नई दिल्ली के हित में गिनी पिग के रूप में नहीं माना जा सकता है।

बागची पश्चिम बंगाल सरकार के साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट और कलकत्ता उच्च न्यायालय में तृणमूल कांग्रेस का पक्ष रखने वाले कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता और पी. चिदंबरम और अभिषेक मनु सिंघवी जैसे हाई-प्रोफाइल अधिवक्ताओं के खिलाफ मुखर रहे हैं।

 

अन्य ख़बरें

जबलपुर :आशीर्वाद यात्रा के पहले तानाशाह हुई सरकार सरकार के इशारे में पुलिस ने सुबह सुबह घर से शिव यादव व कांग्रेसियों को उठाया

Newsdesk

बांधवगढ़ में आदमखोर बाघ के पकड़े जाने से ग्रामीणों ने ली राहत की सांस

Newsdesk

फिल्‍म ‘न्यूटन’ के 6 साल पूरे होने का जश्न मना रहे हैं राजकुमार राव

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy