Seetimes
National

ग्वालियर-श्योपुर रेलखंड को ब्रॉडगेज करने की योजना की बजट संबंधी दिक्कत दूर की जाए : सिंधिया

ग्वालियर, 20 जून (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश के ग्वालियर-श्योपुर रेलखंड को नैरोगेज से ब्रॉडगेज में बदलने को मंजूरी मिल चुकी है, मगर पर्याप्त बजट नहीं मिला है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर बजट की बाधा को दूर करने का अनुरोध किया है।

सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के जनसंपर्क अधिकारी डा केशव पांडे ने बताया है कि सिंधिया ने रेल मंत्री गोयल को लिखे पत्र में आग्रह किया है कि ग्वालियर-श्योपुर रेलखंड जो कि पूर्व में नैरोगेज रेल खंड था, उसको ब्राडगेज के रूप में परिवर्तित करने की स्वीकृति रेल मंत्रालय ने दी थी। उसका टेंडर भी हो चुका है। उक्त प्रोजेक्ट लगभग तीन हजार करोड़ की लागत का है, लेकिन पिछले रेल बजट में मात्र 25 करोड रुपये जारी किया गया जिससे कार्य बेहतर तरीके से सम्पादित नही हो पा रहा है।

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है, ” कोरोना काल एवं इस रेल खंड पर गेज परिवर्तन का कार्य होने के कारण मार्च 2020 से यात्री ट्रेन का संचालन भी बंद है। ये रेलखंड ग्वालियर, मुरैना एवं श्योपुर जिले के लाखों लोगों के लिए जीवन रेखा के समान है। ट्रेन संचालन बन्द होने से यात्रियों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 2021- 22 में रेलवे को ग्वालियर-श्योपुर ब्रौडगेज रेल प्रोजेक्ट के तहत रायरू से सबलगढ़ तक मिटटी का ट्रैक तैयार कराना था। इसके साथ ही 10 बड़े पुल एवं 112 छोटे पुलों का निर्माण भी प्रस्तावित है, उक्त रेल खंड पर 24 नए स्टेशनों का निर्माण भी होना है। ”

सिंधिया ने रेल मंत्री को बताया कि, बजट की कमी के कारण उक्त कार्य द्रुत गति से सम्पन्न होना सम्भव नही हो पा रहा है। इसलिए गेज परिवर्तन के लिए जरूरी बजट की स्वीकृति प्रदान की जाए ताकि उक्त रेल खंड पर तेजी से कार्य पूरा हो सके और यात्री ट्रेनों का संचालन पुन: प्रारम्भ हो सके, जिसका लाभ लाखों यात्रियों को मिल सकेगा।

अन्य ख़बरें

सरकार बुधवार को राज्यसभा में 5 विधेयक पेश करेगी

Newsdesk

भारत में कोविड मामलों में उछाल, एक दिन में 42,625 मामले हुए दर्ज

Newsdesk

बेंगलुरु में माइक्रो कंटेनमेंट जोनों की संख्या बढ़ी, सिविक इकाईयां अलर्ट मोड पर

Newsdesk

Leave a Reply