Seetimes
National

टीआरपी घोटाला : पूरक आरोपपत्र में अर्नब गोस्वामी समेत अन्य के नाम

मुंबई, 22 जून (आईएएनएस)| रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी, जो पिछले साल सामने आए कथित टीआरपी घोटाले के आरोपियों में से एक हैं, को मंगलवार को यहां मुंबई पुलिस द्वारा दायर 1,800 पन्नों के एक बड़े पूरक आरोप पत्र (सप्लीमेंट्री चार्जशीट) में नामित किया गया है। गोस्वामी और टीवी चैनल को टीआरपी घोटाले में आरोपी के रूप में नामित किया गया है और पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह के कार्यकाल के दौरान उनके खिलाफ एक प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की गई थी, जिसने देशव्यापी सनसनी पैदा कर दी थी।

गोस्वामी के अलावा, अन्य आरोपियों में एआरजी आउटलेयर मीडिया के कुछ कर्मचारी, सीओओ प्रिया मुखर्जी, शिवा सुंदरम, शिवेंदु मुलेल्कर, रंजीत वाल्टर, अमित एम. दवे और संजय एस. वर्मा के नाम शामिल हैं। इनके नाम एस्प्लेनेड मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट के साथ दायर पूरक चार्जशीट में हैं।

पुलिस ने मामले में अब तक कम से कम 15 लोगों को चार्जशीट में नामित किया है, जिनमें ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता और रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास खानचंदानी शामिल हैं, जिसमें धोखाधड़ी, जालसाजी, आपराधिक साजिश, सबूत नष्ट करने और आपराधिक विश्वासघात जैसे आरोप शामिल हैं।

इस साल मार्च में, गोस्वामी ने बंबई हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी, जिसमें मुंबई पुलिस, विशेष रूप से पूर्व सीओपी सिंह के खिलाफ गंभीर दुर्भावना का आरोप लगाया गया था और उन्हें गिरफ्तारी से अस्थायी राहत देने की मांग की गई थी।

पत्रकार ने 6 अक्टूबर, 2020 की प्राथमिकी और मामले में आरोपपत्र को यह कहते हुए रद्द करने की भी मांग की कि उनका नाम प्राथमिकी या आरोप पत्र में नहीं है, बल्कि उन्हें उत्पीड़न की रणनीति और प्रतिशोध के रूप में संदिग्ध श्रेणी में रखा गया है।

उनकी याचिका को स्वीकार करते हुए, न्यायमूर्ति एस. एस. शिंदे और न्यायमूर्ति मनीष पिटाले ने पुलिस को निर्देश दिया था कि अगर वे गोस्वामी को तलब करना चाहते हैं या उनके खिलाफ कोई कठोर कार्रवाई करना चाहते हैं तो पुलिस को 72 घंटे का अग्रिम नोटिस देना चाहिए, जबकि पुलिस ने कहा कि वे चार महीने के भीतर जांच पूरी करेंगे।

अक्टूबर 2020 में दर्ज किया गया यह मामला कुछ ऐसे व्यक्तियों की शिकायत से संबंधित है जिनके घरों में बैरोमीटर लगाए गए थे और कथित तौर पर कुछ टीवी चैनलों ने उनकी टीआरपी बढ़ाने के लिए लोगों को कथित तौर पर रिश्वत दी थी।

मुंबई पुलिस ने तब जांच शुरू की थी, जब यह सामने आया कि हंसा समूह के कुछ कर्मचारी कुछ टीवी चैनलों के पक्ष में टीआरपी रेटिंग में हेरफेर कर रहे हैं।

अन्य ख़बरें

योगी ने कोरोना की तीसरी लहर के लिए यूपी को अलर्ट मोड पर रखा

Newsdesk

कोर्ट ने यूपी के मंत्री के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज करने का आदेश दिया

Newsdesk

कर्नाटक में फेरबदल के बाद सोशल इंजीनियरिंग पर विचार कर रही भाजपा

Newsdesk

Leave a Reply