Seetimes
Crime Video

जबलपुर: रुपए दुगने करने का लालच देकर कई लोगों से लाखों रुपए की धोखाधड़ी

जबलपुर 04 जुलाई । गोविन्द नागोत्रा जो गुरूकुल स्कूल के पास संजीवनीनगर निवासी ने लिखित शिकायत की है।वह खेती करता है ।लगभग डेढ़ वर्ष पहले उसके पूर्व परिचित सुनील आम्रवंशी निवासी छिंदवाड़ा के जबलपुर आये थे। और उससे फोन कर बोले कि आप से मिलना है। तो वह उनके बताये हुये स्थान मानस भवन के सामने नेपियर टाउन नागल हाउस के प्रथम तल स्थित एडीव्ही मार्ट कम्पनी (टीसीएडीव्हीटी व्हेन्चर प्राईवेट लिमिटेड) में जाकर उनसे मिला था। उन्हौंने कम्पनी के डायरेक्टर राकेश सिंह पिता विक्रम एंव कम्पनी के अधिकारी राकेश गुप्ता से मुलाकात करवाई थी।

और यह कह कर परिचय करवाया था। ये दोनों दमुआ जिला छिंदवाड़ा के निवासी हैं। और 10-15 वर्ष से जबलपुर मे रह कर प्रापर्टी शेयर ट्रेडिंग एंव विज्ञापन एजेंसियों के क्षेत्र में काम करते है। और इनका जबलपुर में करोड़ों का व्यवसाय है। राकेश सिंह ने बताया कि वह टीसीएडीव्हीटी व्हेनचर प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी, एडीव्ही मार्ट कम्पनी एंव मास्टर टेड का मालिक है। उन्हौंने यह भी बताया वह लोग एक इनवेस्टमेंट प्लान चला रहे हैं। जिसमें 2 हजार रूपये से 5 लाख रूपये तक का इनवेस्टमेंट करवाते हैं।

जो निवेशक को होने वाले मुनाफे से 1 प्रतिशत प्रतिदन के हिसाब से 400 दिनों तक 4 गुना होने तक इन्वेस्टर को रकम दी जाती है। और इसके बदले में बैंक के चैक हम इन्वेस्टर को गारंटी के रूप में देते है, राकेश गुप्ता ने बताया था। उन लोगो को कमोडिटी में शेयर ट्रेडिंग करने का अच्छा अनुभव है। इसमें वो 2 से 5 प्रतिशत प्रतिदिन अर्निंग कर लेते हैं। जिसमें से 1 प्रतिशत इन्वेस्टर को देगें, उनके द्वारा यह भी बताया गया था कि यह उनका निजी आफिस है। और सुखसागर मेडिकल काॅलेज के पास 20 एकड़ का फार्म हाउस एवं ग्राम पडुवा तेवर मे नेचरहोम के नाम से आलीशान फार्म हाउस है। जिसका राकेश सिंह ने अपने साथी गोविंद पटैल ग्राम पडुवा तेवर निवासी को पहुचवाकर उसे विजिट भी करायी, गोविंद पटैल ने भी उसे कम्पनी की स्कीम के बारे में बताकर लालच दिया।

जिससे प्रभावित होकर उसने कम्पनी में पहले 1 लाख 56 हजार रूपये का निवेश किया। जिसका उसे लगातार रिटर्न मिलने लगा ।उसे लगभग 3, 4 माह तक रिटर्न मिला। इससे प्रभावित होकर उसने अपनी पत्नी के जेवर गिरवी रखकर एवं जमा पूंजी एकत्र कर लगभग 5 लाख 60 हजार रूपये इनवेस्ट किये थे। आरटीजीएस के माध्यम से उसने 2 लाख रूपये तथा उसकी पत्नी रंजना नाग ने 3 लाख रूपये अलग से जमा कियेे थे। इसमें से 1 लाख रूपये वेवसाईट पर दिख रहा है। उसने जो नगद 3 लाख 60 हजार रूपये दिये थे। उसके गारण्टी चैक देने को कहा था। लेकिन उन्हौनें नहीं दिया। जिसका विवरण कम्पनी की वेवसाईट ट्रेडिंग 4 यू (बुल एडवाईस) पर उसके नाम से 2 लाख 60 हजार रूपये की जमा राशि दिख रही है। इसके बाद उसने अपने मित्र सुमित नाग निवासी बालाघाट, श्याम वर्मा और पड़ौसी रमेश साहू आदि लोगों केा कम्पनी के बारे में बताया।

तो उन लोगों को भी कम्पनी के द्वारा स्कीम बताकर इनवेस्टमेंट कराया गया। पिछले 4 माह से कम्पनी के द्वारा उसे कोई रिटर्न नहीं दिया जा रहा है। कम्पनी के आफिस में जाकर देखा तो ताला लगा हुआ है। उसने कम्पनी के अधिकारियों से उनके मोबाइल नम्बरों पर सम्पर्क किया। लेकिन उनके मोबाइल बंद हैं । टीसीएडीव्हीटी व्हेन्चर प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी के द्वारा उसके अतिक्ति अन्य कई निवेशकों से स्कीम बताकर लगभग 68 लाख रूपये की धोखाधड़ी की गयी है।

रिपोर्ट पर आरोपी राकेश सिंह डायरेक्टर एडीव्ही मार्ट कम्पनी, एवं राकेश गुप्ता एडीव्ही मार्ट कम्पनी नेपियर टाउन जबलपुर, एवं गोविन्द पटैल निवासी ग्राम पडुवा ग्राम तेवर थाना भेड़ाघाट के विरूद्ध निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

अन्य ख़बरें

पोर्न मामला : राज कुंद्रा को 10 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेजा

Newsdesk

श्रीलंका में 50,000 से ज्यादा लोग क्वारंटीन कानूनों का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार

Newsdesk

यूपी साइबर सेल ने ठगी करने वाले लोगों को बेनकाब किया, बैंक खातों से 6 करोड़ रुपये बरामद

Newsdesk

Leave a Reply