Seetimes
National

कल्याण के अंतिम सफर में उनके अपनों जैसे दिखे योगी अदित्यनाथ

लखनऊ , 23 अगस्त (आईएएनएस)| राममंदिर आंदोलन के अग्रेता माने जाने वाले यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज हो गये। उनके अंतिम सफर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके अपनों से बढ़कर दिखे और कदम-कदम पर साथ नजर आए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व राज्यपाल कल्याण सिह के शनिवार रात को निधन के बाद से ही मोर्चा संभाल लिया। कल्याण सिह के निधन की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संजय गांधी पीजीआई पहुंचे। इसके बाद पाíथव देह के साथ माल एवेन्यू उनके आवास पर पहुंचे। इसी रात से ही कल्याण सिह की अंतिम यात्रा की तैयारी में लगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अलीगढ़ में उन्होंने उनकी अंत्येष्टि के कार्यक्रमों की कमान संभाल रखी है।

योगी आदित्यनाथ शनिवार रात में कई बार कल्याण सिह के घर गए। वहां पर उन्होंने अपने मंत्रियों की ड्यूटी लगाई। रात में ही कैबिनेट की बैठक कर शोक प्रस्ताव पास कराया। इसके बाद रात में ही शांति पाठ भी शुरू कराया। कल्याण सिह के आवास पर पूजा-पाठ के साथ अंतिम दर्शन की ड्यूटी की जिम्मेदारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को सौंपी। पाíथव देह को विपक्षी दलों के नेताओं के दर्शन कराने के लिए विज्ञान भवन में रखा गया। जहां पर कल्याण सिह के अंतिम दर्शन की ड्यूटी संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना व मंत्री सिद्घार्थ नाथ सिह को दी गई। कल्याण सिह के आवास से विज्ञान भवन तक पाíथव देह को लाने की जिम्मेदारी डॉ. महेन्द्र सिह व आशुतोष टंडन को सौंपी गई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लखनऊ आगमन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनकी अगवानी करने एयरपोर्ट पर गए।

प्रधानमंत्री मोदी के दिल्ली जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी फिर से कल्याण सिह के घर पहुंचे। जहां से कल्याण सिह का पाíथव शरीर अंतिम दर्शन के लिए यूपी विधानमंडल और पार्टी कार्यालय लाया गया। योगी उस दौरान दोनों जगह की व्यवस्था की देखरेख करते नजर आए। रविवार शाम एयर एंबुलेंस से कल्याण सिह का पाíथव शरीर उनके पैतृक गांव अतरौली लाया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव भी पाíथव देह के साथ हेलीकॉप्टर में अलीगढ़ पहुंचे थे।

अलीगढ़ पहुंचकर मुख्यमंत्री योगी ने अहिल्या बाई स्टेडियम का जायजा लिया। इस दौरान वह अधिकारियों को निर्देश देते नजर आए। वहीं अंतिम संस्कार की तैयारियों की जानकारी लेते रहे।

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिह को अंतिम विदाई देने के लिए परिवार की तरह काम कर रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर प्रभारी मंत्री सुरेश राणा ने अहिल्याबाई होल्कर स्टेडियम, अतरौली गेस्ट हाउस और कल्याण सिह के गांव मढ़ौली से लेकर नरौरा तक के सड़क मार्ग का निरीक्षण किया।

भाजपा के प्रदेश मंत्री चन्द्रमोहन सिंह ने बताया कि जननायक कल्याण सिंह की बीमारी के बाद ही मुख्यमंत्री योगी अपने परिवार की मुखिया की तरह उनकी देखभाल करते रहे। 4 जुलाई से जब बाबू जी भर्ती हुए तभी मुख्यमंत्री जी हर रोज डाक्टरों से हाल-चाल उनकी दिनचर्या में शामिल था। इसके बाद वह कई बार उन्हें देखने भी पहुंचे। अंतिम सफर में भी वह अपने जननायक के लिए एक परिजन की तरह नजर आए।

करीब ढाई दशक से मुख्यमंत्री योगी और मंदिर को कवर करने वाले पत्रकार गिरीश पांडेय कहते हैं कि मुख्यमंत्री योगी जिस गोरक्षपीठ (गोरखपुर) के पीठाधीश्वर हैं, उसकी तीन पीढ़ियां (ब्रह्मलीन महंत दिग्विजय नाथ, ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ और मुख्यमंत्री के रूप में मौजूदा पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ) राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे। दिवंगत कल्याण सिह, राम मंदिर आंदोलन के अग्रणी नेताओं में थे। मंदिर के लिए सत्ता छोड़ने में उन्होंने एक क्षण भी नहीं लगाया। राम मंदिर आंदोलन जब शीर्ष पर था तो अयोध्या से पास होने और इससे पीठ के जुड़ाव, इस आंदोलन के अगुआ परमहंस दास, अशोक सिघल आदि से बड़े महाराज (ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ) के आत्मीय रिश्ते के कारण गोरखनाथ मंदिर इस आंदोलन का केंद्र बन गया था।

मंदिर आंदोलन पीठ की इस केंद्रीय भूमिका के नाते के राम के नाम पर सत्ता कुर्बान करने वाले कल्याण सिह का खास लगाव था। वह बड़े महाराज ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ का बहुत सम्मान करते थे। यही वजह है कि जब भी गोरखपुर जाते थे, बड़े महाराज से मिलने जरूर जाते थे।

हर मुलाकात के केंद्र में राम मंदिर ही होता था। इस मुद्दे पर दोनों में लंबी चर्चा होती थी। दोनों का एक ही सपना था, उनके जीते जी अयोया में भव्य राम मंदिर का निर्माण हो। कल्याण सिह इस मामले में खुश किस्मत रहे कि उनके जीते जी ही मंदिर का निर्माण शुरू हो गया। राम मंदिर निर्माण को लेकर उनका अटूट विश्वास था। इन्हीं रिश्तों के नाते योगी जी ने उनके इलाज और अंतिम संस्कार में उनके अपने जैसी दिलचस्पी ली।

अन्य ख़बरें

लखीमपुर हिंसा : किसान संगठनों का सोमवार को 6 घंटे का ‘रेल रोको’ आंदोलन का आह्वान

Newsdesk

गुरुग्राम फ्लाईओवर से 2 बाइक सवार गिरे, एक की मौत

Newsdesk

बांग्लादेश हिंसा : बंगाल के सभी सीमावर्ती जिलों में इंटेल अलर्ट

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy