Seetimes
Health & Science

मप्र में टीकाकरण को लेकर उत्साह, टीकाकरण केंद्रों पर लगी कतारें

भोपाल, 26 अगस्त (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने के प्रमुख और कारगर हथियार टीकाकरण को प्राथमिकता से पूरा किया जा रहा है, इसके लिए राज्य में टीकाकरण महा अभियान-दो चलाया जा रहा है। इस अभियान के पहले दिन लोगों में बड़ा उत्साह नजर आया और कई केंद्रों पर सुबह से ही टीका लगवाने वालों की कतारें लग गई। प्रदेश में बुधवार से शुरू हुए टीकाकरण महाअभियान-2 के पहले दिन शुरूआती घंटे में ही आमजन में वैक्सीनेशन के प्रति अपार उत्साह दिखा। वैक्सीन के लिए स्थापित किए गए टीकाकरण केंद्रों पर लंबी कतारें सुबह से ही लगना प्रारंभ हो गई। किसी ने वैक्सीन की पहली डोज तो किसी ने दूसरी डोज लगवा कर कोरोना संक्रमण से सुरक्षा कवच प्राप्त किया। वैक्सीन लगवाने वाले लोगों ने आई एम वैक्सीनेटेड की स्टांप लगवा कर सेल्फी ली और लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आह्वान पर कोरोना वॉलिंटियर्स, समाजसेवी सहित अन्य प्रेरकों ने सुबह से ही अपने-अपने क्षेत्र में टीकाकरण अभियान के प्रति जागरूकता का माहौल बना कर लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया। परिणामस्वरूप केंद्रों पर उत्साह के साथ लोग पहुंच रहे हैं।

टीकाकरण महाअभियान-दो के पहले दिन दोपहर दो बजे तक नौ लाख 42 हजार 490 नागरिकों का टीका लगे। टीकाकरण केन्द्रों पर वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाई जा रही है। केन्द्र पर आ रहे लोगों के लिये आवश्यक सभी व्यवस्थाएं की गई हैं।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष व खजुराहो क्षेत्र के सांसद विष्णु दत्त शर्मा ने अपने संसदीय क्षेत्रों के टीकाकरण केंद्रों पर पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया, साथ ही टीका लगवाने आए लोगों को माला पहनाकर व तिलक लगाकर स्वागत भी किया। पवई में सांसद शर्मा के साथ पन्ना के जिलाधिकारी संजय मिश्रा भी थे।

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ ने लोगों से टीकाकरण को सफल बनाने की अपील करते हुए कहा कि, जिन लोगों ने अभी तक कोरोना वैक्सीन नहीं लगवायी है वो जरूर लगवायें, जिनका दूसरा डोज बाकी है वो भी इसे जरूर लगवायें।

राज्य की वैक्सीनेशन की स्थिति को लेकर उन्होंने कहा, प्रदेश में अभी भी बड़ी आबादी को कोरोना की वैक्सीन नहीं लगी है, दूसरे डोज का आंकड़ा तो बेहद कम है। सरकार एक- दो दिन का महाअभियान तो चलाती है, करोड़ों रुपए प्रचार- प्रसार पर खर्च करती है, आंकड़े बताकर खुद की पीठ थपथपाती है, जश्न – उत्सव मनाती है और बाकी दिन प्रदेश की जनता वैक्सीन के डोज के लिये दर-दर भटकती है, लम्बी-लम्बी लाइनों में लगती है।

अन्य ख़बरें

किस वजह से डेल्टा, डेल्टा प्लस कोविड वेरिएंट अधिक खतरनाक बने?

Newsdesk

मुंबई में 20 महीनों में पहली बार कोविड से कोई मौत नहीं

Newsdesk

कोरोना के वैश्विक मामले बढ़कर 24.06 करोड़ हुए

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy