Seetimes
Health & Science

कोविड संक्रमित को कोवैक्सिन की एक खुराक ही काफी -आईसीएमआर

नई दिल्ली, 29 अगस्त (आईएएनएस)| इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के ताजा अध्ययन में कहा गया है कि कोवैक्सिन की एक खुराक पहले के कोविड-संक्रमित लोगों में वैसी ही प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रदान करती है, जिस तरह से कोविड संक्रमण के पिछले इतिहास के बिना वैक्सीन की दो खुराक के साथ। आईसीएमआर ने अपने हालिया अध्ययन में पाया है कि वैक्सीन की एक खुराक लेते समय पहले से ही कोविड-19 से संक्रमित लोगों में वैक्सीन की दो खुराक लेने वाले अप्रभावित लोगों के समान या बढ़ी हुई एंटीबॉडी प्रतिक्रिया होती है।

बीबीवी152 के 0दिन (टीकाकरण से पहले आधारभूत),28ए2 दिन बाद पहली खुराक (महीना 1) और 56ए2 दिन बाद पहली खुराक (महीना 2) के बाद सार्स-कोविड-2 विशिष्ट एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं की जांच करने के लिए पायलट अध्ययन किया गया था।

पुष्टि किए गए पूर्व-टीकाकरण-कोविड-2 संक्रमण वाले व्यक्तियों की एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं की तुलना संक्रमण के पूर्व सबूत के बिना उन व्यक्तियों के साथ की गई थी।

फरवरी से मई 2021 के दौरान भारत के चेन्नई में टीकाकरण केंद्रों पर बीबीवी152 वैक्सीन प्राप्त करने वाले स्वास्थ्य पेशेवरों और फ्रंटलाइन कार्यकतार्ओं से रक्त के नमूने एकत्र किए गए थे।

बीबीवी152 की पहली खुराक प्राप्त करने से पहले रक्त के नमूने एकत्र किए गए थे। सार्स-कोविड-2 के साथ पहले संक्रमण का निर्धारण सार्स-कोविड-2 आईजीजी सकारात्मकता द्वारा बेसलाइन पर किया गया था। अध्ययन को आईसीएमआर-एनआईआरटी की आचार समिति द्वारा अनुमोदित किया गया था।

परिणाम एक अंशांकन वक्र के माध्यम से निर्धारित किए गए थे, जो विशेष रूप से दो-बिंदु अंशांकन द्वारा उत्पन्न एक उपकरण है और अभिकर्मक क्यूआर कोड के माध्यम से प्रदान किया गया एक मास्टर वक्र है।

दो को छोड़कर पूर्व कोविड -19 संक्रमण वाले लगभग सभी प्रतिभागियों में टीकाकरण के समय पता लगाने योग्य एंटीबॉडी थे। यह अध्ययन सार्वजनिक स्वास्थ्य-उन्मुख और प्रतिरक्षात्मक रूप से निरंतर वैक्सीन रणनीतियों के समर्थन में साक्ष्य प्रस्तुत करता है।

लोकेश शर्मा, वैज्ञानिक और मीडिया समन्वयक,आईसीएमआर कहते हैं, यह एक पायलट अध्ययन है। यदि बड़े जनसंख्या अध्ययनों में इस तरह के निष्कर्षों की पुष्टि की जाती है, तो पहले से पुष्टि किए गए कोविड रोगियों को बीबीवी152 वैक्सीन की एक खुराक की सिफारिश की जा सकती है ताकि एन-वी व्यक्ति सीमित वैक्सीन आपूर्ति का बड़ा लाभ प्राप्त कर सकता है।

अन्य ख़बरें

किस वजह से डेल्टा, डेल्टा प्लस कोविड वेरिएंट अधिक खतरनाक बने?

Newsdesk

मुंबई में 20 महीनों में पहली बार कोविड से कोई मौत नहीं

Newsdesk

कोरोना के वैश्विक मामले बढ़कर 24.06 करोड़ हुए

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy