42.5 C
Jabalpur
May 20, 2022
Seetimes
Education National

सीयूईटी में एनटीए ने अगर कोई प्रश्न वापस लिया तो छात्रों को मिलेंगे 5 अंक

नई दिल्लीसीयूईटी, 21 अप्रैल (आईएएनएस)| नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) 2022 में एक महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है। एनटीए के अनुसार, 2022 के लिए मार्किं ग स्कीम में संशोधन किया गया है। अब यदि प्रश्न में कोई प्रश्न गलत पाया जाता है या कोई किसी प्रश्न को वापस लिया जाता है, तो ड्रॉप किए गए प्रश्न के बदले उम्मीदवारों को 5 अंक दिए जाएंगे। हालांकि यह 5 अंक सभी छात्रों को नहीं मिल सकेंगे। इसके लिए भी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने कुछ प्रावधान किए हैं। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के मुताबिक, यह 5 अंक केवल उन्हीं छात्रों को दिए जाएंगे, जो इस संबंधित प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

गौरतलब है कि कई परीक्षाओं में ऐसा देखने को मिलता है कि पूछे गए प्रश्न के सभी विकल्प गलत पाए जाते हैं। ऐसी स्थिति में परीक्षा आयोजित करवाने वाली संस्था उन गलत प्रश्नों को वापस ले लेती है। अब यदि कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट के दौरान ऐसा होता है तो प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करने वाले छात्रों को 5 अंक दिए जाएंगे।

यूजीसी के मुताबिक, कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसके लागू होने के उपरांत छात्रों को अलग-अलग विश्वविद्यालयों के लिए अलग-अलग प्रवेश परीक्षाएं नहीं देनी होंगी। इससे पहले देशभर के 14 केंद्रीय विश्वविद्यालय अपना अलग-अलग एंट्रेंस टेस्ट आयोजित कर रहे थे। हालांकि अब केंद्रीय विश्वविद्यालयों के अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए केवल सीयूईटी देना होगा। इसी टेस्ट के आधार पर विभिन्न अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में दाखिला मिल सकेगा। यह परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित करवाई जाएगी।

यूजीसी के चेयरमैन एम. जगदीश कुमार बताया कि कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट स्नातक कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए कई प्रवेश परीक्षाओं को लिखने की कठिनाइयों को समाप्त कर देगा। पहले छात्रों को 14 केंद्रीय विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा में लिखना पड़ता था, लेकिन अब छात्र केवल एकल प्रवेश परीक्षा में लिख सकते हैं।

यूजीसी ने सभी राज्य सरकारों और प्राइवेट विश्वविद्यालयों से छात्रों को अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में प्रवेश देने के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) अपनाने की अपील की है।

यूजीसी की मदद से शिक्षा मंत्रालय केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय भी प्राइवेट विश्वविद्यालयों को भी सेंट्रल यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) का हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहित कर रहा। यदि यह प्रयास संभव हो पाता है तो प्राइवेट विश्वविद्यालयों, राज्यस्तरीय विश्वविद्यालयों और डीम्ड विश्वविद्यालयों के छात्रों के लिए यह एक कदम महत्वपूर्ण होगा।

अन्य ख़बरें

आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए खिलौना इकट्ठा करने शिवराज निकलेंगे ठेला लेकर

Newsdesk

चीन मसले पर कांग्रेस ने कहा, देश को अंधेरे में न रखे केंद्र

Newsdesk

सेरेंडिपिटी आर्ट्स ने कलाकारों को आमंत्रित करने के लिए ओपन कॉल की घोषणा की

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy