42.5 C
Jabalpur
May 20, 2022
Seetimes
Headlines National

मृत्युदंड के मामले में दिशानिर्देश तैयार करेगा सुप्रीम कोर्ट

नयी दिल्ली, 22 अप्रैल (आईएएनएस)| सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को स्वत: संज्ञान लेते हुये कहा कि जल्द ही मृत्युदंड को लेकर गाइडलाइन यानी दिशानिर्देश किया जायेगा, जो पूरे देश की अदालतों के लिये मान्य होगा।

जस्टिस यू यू ललित, जस्टिस एस रविंद्र भट्ट और जस्टिस पी एस नरसिम्हा की खंडपीठ ने गाइडलाइन तैयार करने में एटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल की मदद भी मांगी है। खंडपीठ ने साथ ही राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण को भी नोटिस भेजा है।

खंडपीठ ने कहा कि मृत्युदंड की सजा से संबंधित मामलों में देशभर की अदालतों के लिये गाइडलाइन तैयार की जायेगी। खंडपीठ ने कहा कि मृत्युदंड की सजा पाने वाले अभियुक्तों के लिये बचाव के उपाय बहुत ही सीमित हैं।

खंडपीठ इरफान नामक एक अभियुक्त की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। इरफान को निचली अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी, जिसे मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने बरकरार रखा था।

अटॉर्नी जनरल ने कहा कि मृत्युदंड देने की प्रणाली संस्थागत होनी चाहिये।

मामले की सुनवाई के दौरान एमिकल क्यूरी के परमेश्वर ने कहा कि मध्यप्रदेश में ऐसी नीति है कि जो सरकारी वकील जितने अधिक मामलों में मृत्युदंड की सजा दिलवाता है, उसी के आधार पर उसे वेतनवृद्धि मिलेगी। इस मामले में दूसरे एमिकस क्यूरी सिद्धार्थ दवे हैं।

खंडपीठ ने कहा कि इस नीति को रिकॉर्ड किया जाना चाहिये और मामले की सुनवाई दस मई तक के लिये स्थगित कर दी।

गत माह सुप्रीम कोर्ट ने मृत्युदंड दिये जाने के तरीके में बदलाव लाने को लेकर स्वत: संज्ञान लिया था।

इस मामले में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के प्रोजेक्ट 39ए ने आवेदन दायर किया था, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मृत्युदंड की सजा पर विचार करना शुरू किया।

अन्य ख़बरें

चीन मसले पर कांग्रेस ने कहा, देश को अंधेरे में न रखे केंद्र

Newsdesk

सेरेंडिपिटी आर्ट्स ने कलाकारों को आमंत्रित करने के लिए ओपन कॉल की घोषणा की

Newsdesk

लोकतंत्र को बचाने के लिए वंशवादी राजनीति से लड़ना जरूरी: मोदी

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy