Seetimes
Health & Science National

कोवैक्सीन के 1 बैच को निर्माण से लेकर वितरित करने की प्रक्रिया में 3 महीने लगते हैं : भारत बायोटेक

नई दिल्ली, 29 मई (आईएएनएस)| भारत बायोटेक ने शुक्रवार को कहा कि कोवैक्सीन के एक बैच के निर्माण, परीक्षण और रिलीज की समयसीमा लगभग 120 दिन है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि टीकों का निर्माण, परीक्षण, रिलीज और वितरण सैकड़ों चरणों वाली एक जटिल और बहुक्रियात्मक प्रक्रिया है, जिसके लिए मानव संसाधनों के विविध पूल की आवश्यकता होती है।

लोगों के वास्तविक टीकाकरण को लेकर टीकों के परिणाम के लिए, अंतरराष्ट्रीय आपूर्ति श्रृंखला, प्रोड्यूसर्स, नियामकों और राज्य एवं केंद्र सरकार की एजेंसियों से अत्यधिक समन्वित प्रयासों की आवश्यकता है।

कंपनी ने कहा कि टीकों का उत्पादन स्केल-अप एक चरण-दर-चरण प्रक्रिया है, जिसमें जीएमपी (अच्छे विनिर्माण के लिए मानक संचालन प्रक्रिया) के कई नियामक एसओपी शामिल हैं। कोवैक्सीन को वास्तविक टीकाकरण में बदलने के लिए चार महीने का अंतराल है।

कंपनी ने स्पष्ट करते हुए कहा, कोवैक्सीन के एक बैच के लिए विनिर्माण, परीक्षण और रिलीज की समय सीमा लगभग 120 दिन है, जो प्रौद्योगिकी ढांचे और नियामक दिशानिर्देशों पर निर्भर करता है। इस प्रकार, इस साल मार्च के दौरान शुरू किए गए कोवैक्सीन के उत्पादन बैच जून के महीने के दौरान ही आपूर्ति के लिए तैयार होंगे।

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के दिशा-निर्देशों के आधार पर, भारत में आपूर्ति किए जाने वाले सभी टीकों को केंद्र की केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला में परीक्षण और रिलीज के लिए प्रस्तुत करने के लिए कानून द्वारा अनिवार्य किया गया है। राज्य और केंद्र सरकारों को आपूर्ति किए गए टीकों के सभी बैच केंद्र से प्राप्त आवंटन ढांचे पर आधारित हैं।

कंपनी ने कहा, भारत बायोटेक की सुविधाओं से राज्य और केंद्र सरकार के डिपो तक वैक्सीन की आपूर्ति की समय सीमा लगभग दो दिन है। इन डिपो में प्राप्त टीकों को राज्य सरकारों द्वारा अपने संबंधित राज्यों के भीतर विभिन्न जिलों में वितरित किया जाना है। इसमें अतिरिक्त दिनों की जरूरत होती है।

कंपनी ने यह भी कहा कि महामारी के टीके संबंधित सरकारों द्वारा आबादी के सभी वर्गों में समान रूप से वितरित किए जाते हैं। एक बार टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध टीकों को मांग के आधार पर प्राप्तकर्ताओं को समय-समय पर प्रशासित किया जाता है।

अन्य ख़बरें

यमुना किनारे सैकड़ों पेड़ काटे जाने पर सोशल मीडिया पर हंगामा

Newsdesk

अफ्रीका में कोविड-19 के मामले 51.6 लाख से ज्यादा

Newsdesk

मिल्खा सिंह : एथलेटिक्स के ‘भारत रत्न’ को उनका हक नहीं मिला

Newsdesk

Leave a Reply