Seetimes
Health & Science National

गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों का संबल बनी योगी सरकार

लखनऊ, 11 सितम्बर (आईएएनएस)| जब कोई व्यक्ति गंभीर बीमारी से जूझ रहा हो तो घर के बड़े उसका ख्याल रखते है। लेकिन अगर गंभीर बीमारी के साथ गंभीर आर्थिक संकट हो तो स्थिति विषम हो जाती है। ऐसी ही स्थिति से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कइयों को उबारा है। प्रदेश में गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना दिल बड़ा करते हुए खजाना खोल दिया है। भाजपा सरकार आने के बाद प्रदेश में 71 हजार लोगों की करीब 11.29 अरब रुपये की मदद इस मामले में की जा चुकी है। सूचना पहुंचने के बाद पीड़ित तक मदद पहुंचाने की कोशिश में शासन जुटा हुआ है।

ऐसा ही एक मामला गोरखपुर में आया जहां के शेषपुर निवासी रुचि गुप्ता का कहना है कि मेरी तो हर सांस अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति अहसानमंद है। घर की माली हालत बेहद खराब थी और ऊपर से हृदय की गंभीर बीमारी। जान बचने की कोई उम्मीद नहीं। उन्होंने बताया कि उन्होंने सारी उम्मीद ही छोड़ दी थी। उन तक फरियाद पहुंचने के दो दिन के भीतर इलाज के लिए सारी रकम का इंतजाम हो गया।

हृदय की गंभीर बीमारी से पीड़ित रुचि गुप्ता ने तो जीने की उम्मीद ही छोड़ दी थी। उनका हार्ट का वाल्व बदलना जरूरी था और कमजोर आर्थिक स्थिति के चलते 6 लाख रुपये से अधिक का खर्च उठा पाना उनके लिए संभव नहीं था। मेदांता में इलाज के लिए सीएम ने पहले 3.07 लाख रुपये स्वीकृत किए, प्रधानमंत्री के कोष से भी 50 हजार की मदद मिली। शेष धनराशि की जब व्यवस्था नहीं हो पाई तो उनकी फरियाद दोबारा मुख्यमंत्री तक पहुंची। इसके अगले दो दिन में जरूरी 2.5 लाख रुपये का इंतजाम हो गया।

रुचि गुप्ता के इलाज में मुख्यमंत्री योगी तक फरियाद पहुंचाने का माध्यम बने पार्षद व नगर निगम गोरखपुर के उपसभापति ऋषि मोहन वर्मा कहते हैं कि मुख्यमंत्री जी ने गंभीर बीमारियों से पीड़ितों की मदद में ऐतिहासिक कार्य किया है। इसमें जाति, पंथ, मजहब या क्षेत्र का विभेद नहीं किया। उनके संज्ञान में मामला आते ही, भरपूर मदद मिली।

19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश की कमान संभालने के बाद सीएम योगी गंभीर बीमारी से पीड़ित 71626 लोगों को 11 अरब 29 करोड़ 48 लाख 53 हजार 676 रुपये की धनराशि मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से उपलब्ध करा चुके हैं। इस दौरान प्रार्थना पत्र या जनप्रतिनिधि के माध्यम से मामला संज्ञान में आने के बाद मदद की कोशिश की गई। सोशल मीडिया के जरिये सूचना पहुंचने पर भी मदद दी गयी।

सीएम विवेकाधीन कोष से गंभीर बीमारियों के इलाज में योगी आदित्यनाथ की तरफ से दी गई मदद

अन्य ख़बरें

भारत में कोरोना के 35,662 नए मामले, 281 मौतें

Newsdesk

केरल : 84 वर्षीय महिला को वैक्सीन की दोनों खुराक 30 मिनट के अंतराल पर दी गई

Newsdesk

कोविड के बढ़ते मामलों के बीच अमेरिका में बूस्टर शॉट पर हुई बहस

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy