28.6 C
Jabalpur
June 28, 2022
Seetimes
World

चिकित्सा प्रयोग के लिए आवारा पशुओं पर अत्याचार कर रहा रावलपिंडी विश्वविद्यालय

इस्लामाबाद, 8 जून (आईएएनएस)| कुछ दिनों पहले रावलपिंडी में पीर मेहर अली शाह (पीएमएएस) एरिड एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में प्रयोग करने के नाम पर जानवरों पर अत्याचार करने की खबर सामने आई है, जिसे लेकर ट्वीट्स और वीडियो सोशल मीडिया पर प्रसारित हुए हैं। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, यह बताया जा रहा है कि रावलपिंडी की सड़कों से सैकड़ों स्वस्थ आवारा कुत्तों को विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान विभाग के छात्रों द्वारा प्रयोग करने के लिए उठाया गया था।

इस्लामाबाद में एक पशु कल्याण निकाय, क्रिटर्स आर्क वेलफेयर ऑर्गनाइजेशन की अनिला उमैर ने खुलासा किया कि उन्हें इस महीने की शुरुआत में शिक्षण संस्था में होने वाली अनैतिक प्रथा के बारे में पता चला।

उन्होंने कहा, “जब से मैं लगभग दो दशकों से जानवरों को बचाने में जुटी हूं, तभी से मैं शहर में पशु कार्यकर्ताओं के साथ लगातार संपर्क में रही हूं। 1 जून को मुझे एक पशु कार्यकर्ता द्वारा सूचित किया गया था कि जिस आवारा कुत्ते को वह खाना खिलाती थी, उसे एक मोटरसाइकिल पर सवार दो लोगों ने उठा लिया है।”

सीसीटीवी फुटेज से जल्द ही पता चला कि ये लोग एरिड यूनिवर्सिटी के थे। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, तेजी से कार्रवाई करते हुए, उमैर ने विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले एक दोस्त से संपर्क किया और उसे विश्वविद्यालय की पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान प्रयोगशाला का दौरा करने के लिए कहा।

पशु कार्यकर्ता ने जियो टीवी से कहा, “मैंने उसे चोरी हुए कुत्ते की एक तस्वीर भेजी थी और जब वह प्रयोगशाला में गया तो उसने देखा कि उसी कुत्ते का ऑपरेशन किया गया था और वह भयानक स्थिति में था। उसने हमें तुरंत परिसर में आने के लिए कहा।”

उन्होंने आगे कहा, “जब हम पहुंचे, तो हमने देखा कि कुत्तों के पैरों से बांध दिया गया था, कुछ के मुंह बंद कर दिए गए थे। यह एक चौंकाने वाला और दिल दहला देने वाला नजारा था।”

जब छात्रों और स्टाफ के सदस्यों से इस प्रयोग के बारे में पूछताछ की गई, तो उमैर ने खुलासा किया कि वे रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद चिंतित दिखाई दे रहे थे।

इस आश्वासन के बाद कि कर्मचारी उमैर और उसके साथियों के साथ मिलकर काम करेंगे, लैब से बाहर निकलते हुए, पशु कार्यकर्ता ने कहा कि जब वे कुत्तों की रिहाई और सुरक्षा के संबंध में आगे का रास्ता जानने के लिए अगली सुबह वापस गए तो उन्हें विश्वविद्यालय परिसर में प्रवेश करने से रोक दिया गया।

जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, जब इस मुद्दे पर विभाग के डीन अरफान यूसुफ से उमर ने संपर्क किया तो उमैर को धमकी दी गई।

जब से कुत्तों पर हुए अत्याचार और दर्द में कराहते हुए भयानक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए हैं, तब से कई पशु कार्यकर्ता और पशु बचाव दल, जिनमें मिशी खान जैसी हस्तियां शामिल हैं, ने अधिकारियों को सतर्क करने और विश्वविद्यालय पर दबाव बनाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। उन्होंने इस तरह के भयानक पशु चिकित्सा ‘प्रशिक्षण’ को समाप्त करने पर जोर दिया है।

शहर के अन्य पशु कार्यकर्ताओं के साथ उमैर ने 7 जून को इस्लामाबाद प्रेस क्लब में एक विरोध प्रदर्शन भी किया था। जियो न्यूज ने बताया कि भले ही इस खबर को ऑनलाइन वायरल हुए एक सप्ताह बीत चुका हो, लेकिन एरिड विश्वविद्यालय ने अभी तक इस संबंध में एक आधिकारिक बयान तक जारी नहीं किया है।

अन्य ख़बरें

केंड्रिक लैमर ने ग्लास्टनबरी परफॉर्मेस में महिला अधिकार को लेकर दिया बयान

Newsdesk

जेलेंस्की ने जी7 में कहा- सर्दियों के शुरू होने से पहले युद्ध समाप्त हो जाए

Newsdesk

इजराइल के प्रधानमंत्री ने संसद भंग होने से पहले की कैबिनेट की अंतिम बैठक

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy