Seetimes
Health & Science

स्विट्जरलैंड के चमगादड़ों में आसानी से इंसानों में फैलने वाले कई वायरस मिले

बर्न, 18 जून (आईएएनएस)| स्विट्जरलैंड में चमगादड़ 39 विभिन्न वायरल परिवारों के वायरस को शरण दिए (अपने अंदर समाए) हुए हैं और इनमें से कुछ में तो मनुष्यों सहित अन्य जानवरों में संचारित होने और बीमारी पैदा करने की भी क्षमता है। शोधकर्ताओं ने एक नए शोध में यह दावा किया है। दुनिया भर में चमगादड़ों द्वारा अपने शरीर में आश्रय दिए गए वायरस की निगरानी से उन वायरस की समझ और पहचान में सुधार हो सकता है, जो मनुष्यों के लिए जोखिम पैदा करते हैं और दुनिया अपने आपको इस तरह की एक और महामारी के लिए बेहतर तरीके से तैयार कर सकती है।

पिछले कुछ शोध या स्टडी में कई अलग-अलग देशों में चमगादड़ों पर विभिन्न प्रकार के वायरस को लेकर जांच की गई है, लेकिन अभी तक किसी भी स्टडी का ध्यान स्विट्जरलैंड पर केंद्रित नहीं हुआ था।

हालांकि अब ज्यूरिख विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने स्विट्जरलैंड में रहने वाले 7,000 से अधिक चमगादड़ों पर वायरस की जांच की है। ये चमगादड़ स्थिर और प्रवासी चमगादड़ों की 18 प्रजातियों से संबंध रखते हैं। विशेष रूप से, उन्होंने चमगादड़ से एकत्र किए गए अंग, मल या उनके द्वारा मल त्याग करने वाले स्थानों से नमूनों में पाए जाने वाले वायरस के डीएनए और आरएनए अनुक्रमों का विश्लेषण किया है।

जीनोमिक विश्लेषण से वायरस के 39 विभिन्न परिवारों की उपस्थिति का पता चला, जिनमें 16 परिवार पहले अन्य धमनियों (कशेरुकी) को संक्रमित करने में सक्षम पाए गए और इसलिए संभावित रूप से यह अन्य जानवरों या मनुष्यों में संचारित हो सकते हैं।

इस जोखिम वाले वायरस के आगे के विश्लेषण से पता चला है कि अध्ययन किए गए बैट कॉलोनियों में से एक ने मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (एमईआरएस) से संबंधित कोरोनावायरस (सीओवी) के रूप में जाने जाने वाले वायरस के लगभग-पूर्ण जीनोम को आश्रय दिया।

जबकि एमईआरएस-सीओवी से संबंधित वायरस मनुष्यों में बीमारी पैदा करने के लिए नहीं जाना जाता है, एमईआरएस-सीओवी 2012 में एक महामारी के लिए जिम्मेदार रहा है। ये निष्कर्ष ओपन-एक्सेस जर्नल प्लोस वन में प्रकाशित हुए हैं।

इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से इसाबेल हार्डमेयर ने कहा, स्विट्जरलैंड के लिए स्थानिक चमगादड़ के मेटागेनोमिक विश्लेषण से व्यापक वायरस जीनोम विविधता का पता चलता है। 39 विभिन्न वायरस परिवारों के वायरस जीनोम का पता चला है, जिनमें से 16 धमनियों को संक्रमित करने के लिए जाने जाते हैं, जिनमें कोरोनावायरस, एडेनोवायरस, हेपेवायरस, रोटावायरस ए एवं एच और परवोवायरस शामिल हैं।

शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष में पाया कि बैट स्टूल के नमूनों का जीनोमिक विश्लेषण चमगादड़ों से फैलने वाले वायरस की निरंतर निगरानी के लिए एक उपयोगी उपकरण हो सकता है, जिसमें एमईआरएस-सीओवी- संबंधित वायरस भी शामिल है। इस प्रकार की ट्रैकिंग संभावित रूप से ऐसे वायरल आनुवंशिक उत्परिवर्तन के संचय का पता लगा सकती है, जो अन्य जानवरों में संचरण के जोखिम को बढ़ाने वाली हो सकती है, जिससे मनुष्यों के लिए खतरा पैदा करने वाले वायरस का पहले पता लगाया जा सके।

रोग पैदा करने वाले वायरस चमगादड़ से सीधे मनुष्यों में संचारित होने के कुछ ज्ञात उदाहरण भी पहले से ही हमारे सामने हैं। चमगादड़ों में पाए जाने वाले कुछ वायरस अन्य जानवरों में आसानी से पहुंच सकते हैं और यहां तक कि यह मनुष्यों में भी फैल सकते हैं।

चल रही कोविड-19 महामारी के पीछे का वायरस सार्स-सीओवी-2 है, जिसे लेकर माना जा रहा है कि यही वह वायरस है, जिससे कोरोना महामारी फैली है और इसके मनुष्यों को संक्रमित करने से पहले एक चमगादड़ से दूसरे जानवर में फैलने की संभावना भी जताई जा रही है।

अन्य ख़बरें

भारत में एक दिन में 41 हजार से ज्यादा कोविड मामले और 593 मौतें

Newsdesk

कोरोना के वैश्विक मामले बढ़कर 19.72 करोड़ हुए

Newsdesk

अफ्रीका साल के अंत तक 10 प्रतिशत कोविड-19 टीकाकरण के लक्ष्य के लिए ‘ट्रैक पर नहीं’: डब्ल्यूएचओ

Newsdesk

Leave a Reply