Seetimes
Health & Science Town

मप्र में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने 60 हजार काढ़े के पैकेट वितरित

भोपाल, 27 अप्रैल (आईएएनएस)| कोरोना के संक्रमण का मुकाबला करने के लिए काढ़े को बड़ा हथियार माना गया है, यही कारण है कि मध्य प्रदेश में लोगों को काढ़े के पैकेट बांटे जा रहे हैं। अब तक 60 हजार लोगों को यह पैकेट वितरित किए जा चुके हैं। आयुष पद्धति अपनाकर कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जा सकती हैं। इसके लिये आयुष विभाग द्वारा लोगों को जागरूक किया जा रहा है। साथ ही जीवन अमृत योजना के तहत काढ़े का वितरण किया जा रहा है। अब तक 59 हजार 843 काढ़े के पैकेट इतने ही परिवारों को उपलब्ध कराए गए हैं। इससे लाभ लेने वाले सदस्यों की संख्या एक लाख 49 हजार 608 है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा विषेषज्ञों के अनुसार रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए एक चुटकी हल्दी और नमक के साथ गर्म पानी से गरारे किए जाने चाहिये। प्रतिदिन सुबह नाक में अणु या तिल तेल की 2-2 बूंद डाली जा सकती है। अश्वगंधा चूर्ण के एक से तीन ग्राम चूर्ण को लगातार 15 दिन तक गर्म पानी के साथ लिया जा सकता है। गलोय घनवटी 500 मिली ग्राम दिन में दो बार ले सकते हैं। त्रिकटु पाउडर एक ग्राम, तुलसी तीन से पांच पत्तियां एक गिलास पानी में उबालकर पीने से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। तुलसी की पत्तियां, दालचीनी, शुण्डी और कालीमिर्च का काढ़ा भी उपयोगी है।

इसी प्रकार होम्योपैथी में आर्सेनिकम एल्बम-30 को कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ रोग निरोधी दवा के रूप में अपनाया जा सकता है। इसकी एक डोज खाली पेट 3 दिन उपयोग की जा सकती है। यूनानी चिकित्सा में भी रोग-प्रतिरोधक दवाएं उपलब्ध हैं, जो भी काफी कारगर हैं।

अन्य ख़बरें

कोविड 19: दिल्ली में 25 फीसदी युवा हो चुके वैक्सीनेट

Newsdesk

जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र को मजबूती देने में महत्वपूर्ण कदम है प्रधानमंत्री की बैठक : डॉ. जितेंद्र सिंह

Newsdesk

मानेसर फैक्ट्री में भीषण आग, कोई हताहत नहीं

Newsdesk

Leave a Reply