15 C
Jabalpur
February 6, 2023
सी टाइम्स
राष्ट्रीय हेडलाइंस

2024 के अंत तक दुर्घटनाओं में 50 फीसदी की कमी लाना सरकार का लक्ष्य : गडकरी

ग्रेटर नोएडा, 12 जनवरी | केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडे के साथ गुरुवार को यहां ऑटो एक्सपो 2023 का आधिकारिक उद्घाटन किया। यह आयोजन 13 जनवरी को सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे तक कारोबारियों के लिए खुला रहेगा। यह 14 जनवरी से 18 जनवरी तक सुबह 11 बजे से आम जनता के लिए खुलेगा। हालांकि, 14-15 जनवरी को बंद होने का समय रात 8 बजे है। 16-17 जनवरी को शाम 7 बजे और 18 जनवरी शाम 6 बजे तक खुला रहेगा।

गडकरी ने अपने उद्घाटन भाषण में ऑटो उद्योग से सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मौतों को कम करने के लिए वाहनों में सुरक्षा सुविधाओं को बढ़ाने का आग्रह किया।

उन्होंने अपनी शुरुआती टिप्पणी में कहा कि सरकार का लक्ष्य 2024 के अंत तक दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत की कमी लाना है, क्योंकि उन्होंने ऑटो उद्योग से सड़क सुरक्षा के लिए स्वत: कार्रवाई करने का अनुरोध किया।

गडकरी ने कहा, “हम भारत के ऑटोमोबाइल उद्योग को विनिर्माण के मामले में विश्व में अग्रणी बनाना चाहते हैं, लेकिन हमारा लक्ष्य 2024 के अंत तक सड़क दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत की कमी लाना है।”

मंत्री ने दावा किया कि सड़क हादसों में 18 से 34 साल के कई युवा मारे जाते हैं।

उन्होंने जोर देकर कहा कि जैसे-जैसे सड़क के बुनियादी ढांचे में सुधार हुआ है, वैसे-वैसे कारों के चलने की गति भी बढ़ी है।

गडकरी ने कहा, “यह जानते हुए कि पांच साल में यह उद्योग दुनिया का अग्रणी विनिर्माण केंद्र बन जाएगा, मैं आपको एक बार फिर अपनी शुभकामनाएं दे रहा हूं। आप सभी इस लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम हैं।”

मंत्री ने ऑटो सेक्टर से भी स्क्रैपिंग के मोर्चे पर मदद मांगी।

गडकरी ने कहा, “स्क्रैपिंग प्रक्रिया के दौरान ऑटोमोटिव उद्योग के लिए कच्चे माल की लागत में 33 प्रतिशत की कमी आई, जबकि बिक्री में 10-12 प्रतिशत की वृद्धि हुई।”

उन्होंने ऑटो कंपनियों को यह भी सुझाव दिया कि वे परिमार्जन साख (स्क्रैपेज क्रेडेंशियल) पेश करने वाले नई कारों के खरीदारों को छूट की पेशकश करें।

मंत्री ने कहा, “अगर आप छूट की पेशकश कर सकते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा, क्योंकि इससे आपकी बिक्री और कमाई बढ़ेगी।”

गडकरी के मुताबिक, स्क्रैप किए गए वाहनों से धातुओं और अर्धचालकों का पुन: उपयोग करना संभव है, जिससे तैयार माल की कीमत कम हो जाएगी।

वायु प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए मंत्री ने कहा कि अब जीवाश्म ईंधन के आयात और ईवी निर्यात में कटौती करने का समय है।

उन्होंने कहा, “कभी-कभी वायु प्रदूषण के कारण मेरा दिल्ली आने का मन नहीं करता है।”

इस अवसर पर महेंद्र नाथ पांडे ने कहा कि भारत के पास दुनिया के केवल 1 प्रतिशत ऑटोमोबाइल होने के बावजूद यह दुनिया भर में सड़क से संबंधित सभी मौतों का 11 प्रतिशत है।

पांडे ने यह भी कहा कि ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआई) द्वारा ई-वाहनों के लिए फास्ट चार्जर विकसित किए जा रहे हैं, जो जल्द ही बाजार में उपलब्ध होंगे।

अन्य ख़बरें

लग्जरी कार के सेफ्टी फीचर्स भी बन रहे हैं जान के दुश्मन, बरतें एहतियात

Newsdesk

जामिया हिंसा मामले में दिल्ली की अदालत ने शरजील इमाम समेत 11 को किया बरी

Newsdesk

प्रसिद्ध गायिका वाणी जयराम अपने घर में मृत पाई गईं, पुलिस ने संदिग्ध मौत का मामला दर्ज किया

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy