22.8 C
Jabalpur
October 5, 2022
Seetimes
जीवनशैली हेल्थ एंड साइंस

बहुत अधिक प्यास लगना भी देता हैं खतरे का संकेत, हो सकती हैं ये बीमारियां

शरीर को पानी की पर्याप्त मात्रा की जरूरत होती हैं। रोजाना कम से कम 3-4 लीटर पानी पीना ही चाहिए। मानव शरीर में अपशिष्ट के उत्सर्जन के लिए पानी की आवश्यकता होती है। लेकिन कई बार देखने को मिलता हैं कि पानी पीने के बावजूद अनायास ही प्यास लगती रहती हैं तो यह सेहत के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। जी हां, बहुत अधिक प्यास लगना भी बीमारियों की ओर इशारा करता हैं। अगर आपको भी जरूरत से अधिक प्यास लग रही है तो इस बारे में सावधानी बरतने की आवश्यकता है। आज इस कड़ी में हम आपको बताने जा रहे हैं कि बार-बार प्यास लगने के कौन-कौन से कारण हो सकते हैं। इन्हें जानकर अपनी सेहत के प्रति सजग रहने की जरूरत हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में…डिहाइड्रेशन की स्थितियदि शरीर डिहाइड्रेशन की स्थिति में है, यानी कि शरीर में पानी की कमी हो गई है तो इसमें आपको अधिक प्यास लग सकती है। हालांकि यह समस्या ज्यादातर गर्मी के दिनों में देखने को मिलती है। गर्मी के मौसम में धूप के संपर्क में आने के कारण पसीने के रूप में शरीर का ज्यादातर पानी बाहर निकल जाता है, जिसके कारण इसकी कमी हो सकती है। डिहाइड्रेशन कुछ स्थितियों में गंभीर समस्याकारक भी हो सकती है जिसका विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए।एंग्जायटीसामान्य अर्थ में धड़कन का बढ़ जाना, बेचैनी और घबराहट का महसूस होना ही मेडिकल की भाषा में एंग्जायटी कहलाता है। ऐसी स्थिति में मुंह भी सूखने लगता है, जिस कारण व्यक्ति अधिक पानी पीता है। ऐसी स्थिति में कुछ एंजाइम मुंह में बनने वाली लार की मात्रा में भी कमी ला देते है, जिस कारण भी अधिक प्यास लग सकती है।गर्भावधि मधुमेह का संकेतबार-बार पानी पीने की जरूरत महसूस होना ज्यादातर गर्भवती महिलाओं में एक आम समस्या है। हालांकि, अगर यह जारी रहता है और गर्भावस्था के साथ बढ़ता जाता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें क्योंकि यह गर्भावधि मधुमेह का संकेत भी हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान मधुमेह की समस्या का जोखिम अधिक होता है, इस बारे में विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता होती है।अपचकई बार अधिक तेलयुक्त या मसालेदार भोजन खाने के बाद वह आसानी से नहीं पचता है। शरीर को गरिष्ठ भोजन पचाने के लिए अधिक पानी की जरूरत होती है। इससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है और यह अत्यधिक प्यास की वजह हो सकती है।डायबिटीज का संकेतबार-बार प्यास लगना आपमें डायबिटीज रोग के विकसित होने का भी संकेतक हो सकता है। डॉक्टर्स बताते हैं जब ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है तो शरीर मूत्र के माध्यम से इसे स्वाभाविक तौर पर निकालने का प्रयास करता रहता है। बार-बार पेशाब जाने के कारण भी शरीर में पानी की कमी होने लगती है जिसके कारण भी आपको अधिक प्यास लगने लगती है। डायबिटीज एक गंभीर और दीर्घकालिक समस्या है जिसके रोकथाम को लेकर विशेष सावधानी बरतते रहने की आवश्यकता होती है।स्लाइवा ग्लैंड का इनएक्टिव होनामुंह में जब स्लाइवा ग्लैंड एक्टिव नहीं होता तो मुंह सूखने लगता है। इससे होंठ और गला भी सूखने लगते हैं। इससे प्यास का अहसास बार-बार होता है। कई बार ऐसा कुछ दवाओं के कारण भी होता है। दवांए स्लाइवा निकालना कम कर देती हैं। दवा खाने से मुंह का यह ग्लैंड बंद हो जाता हैं। इसके अलावा कैंसर जैसी कुछ बीमारियों में भी मुंह सूखने की समस्या होती है। स्लाइवा कम बनने से सांस की बदबू, स्वाद में परिवर्तन, मसूड़ों में दिक्कत, होने लगती है।पॉलीडिप्सिया की समस्यापॉलीडिप्सिया अत्यधिक प्यास की भावना है। पॉलीडिप्सिया अक्सर मूत्र संबंधी स्थितियों से जुड़ा होता है जिसके कारण आपको बहुत अधिक पेशाब आता है। बार-बार पेशाब के कारण शरीर में तरल पदार्थों की कमी को पूरा करने के लिए आपको अधिक प्यास लगने लगती है। यह शारीरिक प्रक्रियाओं के कारण भी हो सकता है जिसमें आप बहुत अधिक मात्रा में तरल पदार्थ खो देते हैं।एनीमियाशरीर में खून की कमी होने पर भी बार-बार प्यास लगने की समस्या होती है। ऐसा खून में रेड ब्लड सेल के कम बनने के कारण होता है। शरीर में जब पर्याप्त ऑक्सीजन की स्पलाई नहीं होती तो प्यास लगने की समस्या होने लगती है।

अन्य ख़बरें

बालों की सही देखभाल के लिए पता होना चाहिए उनका प्रकार, जानिए कैसे हैं आपके बाल

Newsdesk

रात में सोने से पहले नाभि में डाले गुलाब जल, होंगे ये बेहतरीन फायदे

Newsdesk

आज का राशिफल 04-Oct-2022

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy