16.5 C
Jabalpur
December 1, 2022
सी टाइम्स
जीवनशैली

बालों की सही देखभाल के लिए पता होना चाहिए उनका प्रकार, जानिए कैसे हैं आपके बाल

अमूमन आपने विशेषज्ञों को यह कहते हुए सुना होगा कि बालों के प्रकार के अनुसार ही हेयर केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए। उसके बाद ही उनसे बालों को फायदा होता है। इसके लिए सबसे पहले जरूरी है कि आपको अपने बालों का प्रकार पता हो। आइए हम आपको पांच तरह के बालों के प्रकार के बारे में बताते हैं ताकि आप उसी के हिसाब से अपने बालों की सही देखभाल कर सकें। सीधे बालकई महिलाएं सीधे बाल पाने के लिए हेयर रिबॉन्डिंग या फिर हेयर स्मूदनिंग जैसे ट्रीटमेंट्स का सहारा लेती हैं, लेकिन कुछ ऐसी भी होती हैं जिनके बाल कुदरती सीधे होते हैं। सीधे बाल भी तीन प्रकार के होते हैं। इनमें महीन, पतले और मोटे बाल शामिल हैं। सीधे बालों को पोषण देने के लिए हमेशा सोडियम मुक्त माइल्ड शैंपू का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके साथ ही चौड़े दांतों वाली कंघी के इस्तेमाल से उन्हें उलझने से बचाया जा सकता है। वेवी बालअगर आपके बाल लहराते हुए यानी इन पर एस बनता है तो ये वेवी प्रकार के बाल होते हैं। वेवी बालों को धोने के बाद कंडीशनर का इस्तेमाल जरूर करें। यह आपके बालों को सीधा और स्मूद बनाता है और इससे बालों में स्टाइलिंग करना भी आसान हो जाता है। वहीं, किसी भी तरह की हेयर स्टाइलिंग के लिए अपने हाथों पर थोड़ी सी हेयर स्टाइलिंग क्रीम लें और उसे अपने बालों पर लगाएं। घुंघराले बालघुंघराले बाल सी आकार के होते हैं और ऐसे बाल हर किसी को आकर्षित करते हैं। हालांकि, घुंघराले बालों की देखभाल करना आम बालों की अपेक्षा थोड़ा मुश्किल होता है। अगर घुंघराले बालों वाली महिलाएं यह चाहती हैं कि उनको हेयर स्टाइलिंग में कोई परेशानी न हो तो उन्हें स्टाइलिंग से पहले अपने बालों को हाइड्रेटिंग शैंपू से धोना चाहिए। यह बालों को अच्छे से साफ करने के साथ-साथ उन्हें भरपूर पोषण देने में भी मदद करेगा। कॉयल हेयरये बाल आमतौर पर सीधे, लहरदार और घुंघराले की तुलना में अधिक नाजुक होते हैं। इसका कारण है कि इनमें अपेक्षाकृत कम परतें होती हैं। कॉयल बालों को तीन भागों में बांटा गया है, जिन्हें टाइप 4 ए, टाइप 4 बी और टाइप 4 सी के नाम से जाना जाता है। ये बाल प्राकृतिक रूप से बहुत घुंघराले होते हैं और इनकी अतिरिक्त देखभाल करना महत्वपूर्ण है। लोक्स बाललोक्स या ड्रेडलॉक बाल वाले लोग 1800 ईसा पूर्व में भारत में दिखाई दिए, जबकि अफ्रीका में ये पहली बार 500 ईसा पूर्व में दिखाई दिए। यह रस्सी की तरह दिखते हैं जिनमें ब्रेडिंग स्टाइलिंग ज्यादा की जाती है। इस प्रकार के बालों को संवारने में काफी समय और मेहनत लगती है। इसके अतिरिक्त, इन बालों की सफाई करना और सुलझाना सामान्य बालों की तुलना में थोड़ा मुश्किल होता है।

अन्य ख़बरें

कृष्णा फल को डाइट में करें शामिल, मिलेंगे स्वास्थ्य से जुड़े कई फायदे

Newsdesk

सर्दी की इन 5 मौसमी सब्जियों से बनाया जा सकता है हलवा, आसान है रेसिपी

Newsdesk

आज का राशिफल 01-Dec-2022

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy