14.3 C
Jabalpur
December 7, 2022
सी टाइम्स
राष्ट्रीय

छत्तीसगढ़ में अब तक 10 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी

रायपुर, 22 नवंबर (आईएएनएस)| छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का क्रम जारी है। राज्य में अब तक 10 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है। इस बार अनुमान है कि सरकार द्वारा किसानों से 110 लाख मीट्रिक टन धान का उपार्जन होगा। आधिकारिक तौर पर उपलब्ध कराई गई जानकारी में बताया गया है कि राज्य में किसानों से एक नवंबर से धान की खरीदी का सिलसिला शुरु हुआ है। अब तक 21 दिनों में धान खरीदी का आंकड़ा 10 लाख मीट्रिक टन को पार कर गया है। धान खरीदी के एवज में किसानों को 2100 करोड़ से अधिक की राशि का भुगतान किया जा चुका है। धान खरीदी के साथ-साथ कस्टम मिलिंग के लिए उठाव चल रहा है। अब तक चार लाख मीट्रिक टन से अधिक धान का उठाव समितियों से किया जा चुका है। धान खरीदी का यह क्रम 31 जनवरी तक चलेगा।

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा धान बेचने वाले किसानों की सुविधा के लिए ‘टोकन तुंहर हाथ’ ऐप बनाया गया है। इसके जरिए किसान ऑनलाइन टोकन प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा मेन्युअल तरीके से अग्रिम में टोकन दिया जा रहा है, जिसके फलस्वरूप किसानों का धान सुविधाजनक ढंग से खरीदने का काम हो रहा है।

खाद्य विभाग के सचिव टोपेश्वर वर्मा ने बताया कि समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के 21 दिनों में किसानों से समर्थन मूल्य पर 10 लाख 13 हजार 880 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। अब तक तीन लाख 229 किसानों को धान के एवज में 2109.81 करोड़ रूपए की राशि बैंक लिकिंग व्यवस्था के तहत जारी कर दिया गया है।

खाद्य सचिव ने बताया कि राज्य समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए चालू सीजन में प्रदेश में 25.92 लाख किसानों का पंजीयन हुआ है, जिसमें लगभग 2.21 लाख नये किसान है। राज्य में धान खरीदी के लिए 2560 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं। इस साल किसानों से सामान्य धान 2040 रूपए प्रति क्विंटल तथा ग्रेड-ए धान 2060 रूपए प्रति क्विंटल की दर से खरीदा जा रहा है।

अन्य ख़बरें

बैतूल में बोरवेल में गिरा मासूम, राहत और बचाव कार्य जारी

Newsdesk

साइबर हमले के 2 हफ्ते बाद एम्स के मुख्य भवन का सर्वर आंशिक रूप से शुरू

Newsdesk

दिल्ली के झिलमिल औद्योगिक क्षेत्र की फैक्ट्री में लगी आग

Newsdesk

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy